Mohammad Asadullah's Photo'

मोहम्मद असदुल्लाह

1958 | नागपुर, भारत

महक उठी है फ़ज़ा पैरहन की ख़ुशबू से

चमन दिलों का खिलाने को ईद आई है

जाते बरस तुझ को सौंपा ख़ुदा को

मुबारक मुबारक नया साल सब को

आब-दीदा हूँ मैं ख़ुद ज़ख़्म-ए-जिगर से अपने

तेरी आँखों में छुपा दर्द कहाँ से देखूँ