Mohammad Salim's Photo'

मोहम्मद सालिम

1933 | दरभंगा, भारत

मोहम्मद सालिम

ग़ज़ल 14

नज़्म 11

अशआर 2

प्यास के शहर में दरिया भी सराबों का मिला

मंज़िल-ए-शौक़ तरसती रही पानी के लिए

  • शेयर कीजिए

भूल गया हूँ सब कुछ 'सालिम' मुझ को कुछ भी याद नहीं

यादों के आईने में अब इक इक चेहरा धुँदला है

 

पुस्तकें 6

 

"दरभंगा" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए