Pirzada Qasim's Photo'

पीरज़ादा क़ासीम

1943 | कराची, पाकिस्तान

समाजिक और राजनैतिक व्यंग पर अधारित शायरी के लिए विख्यात पाकिस्तानी शायर

समाजिक और राजनैतिक व्यंग पर अधारित शायरी के लिए विख्यात पाकिस्तानी शायर

शहर तलब करे अगर तुम से इलाज-ए-तीरगी

साहिब-ए-इख़्तियार हो आग लगा दिया करो

तुम्हें जफ़ा से यूँ बाज़ आना चाहिए था

अभी कुछ और मिरा दिल दुखाना चाहिए था

इक सज़ा और असीरों को सुना दी जाए

यानी अब जुर्म-ए-असीरी की सज़ा दी जाए

उस की ख़्वाहिश है कि अब लोग रोएँ हँसें

बे-हिसी वक़्त की आवाज़ बना दी जाए