Sandeep Gupte's Photo'

संदीप गुप्ते

1961 | भोपाल, भारत

ग़ज़ल 9

शेर 12

दुल्हन की मेहंदी जैसी है उर्दू ज़बाँ की शक्ल

ख़ुशबू बिखेरता है इबारत का हर्फ़ हर्फ़

  • शेयर कीजिए

आँधियाँ आईं उठा कर ले गईं सब बस्तियाँ

मैं ने इक दिल में बनाया था मकाँ अच्छा हुआ

  • शेयर कीजिए

तू कहाँ रहती है पूछा था किसी ने एक दिन

मैं ग़मों के साथ रहती हूँ ख़ुशी कहने लगी

  • शेयर कीजिए

"भोपाल" के और शायर

  • नफ़ीसा सुल्ताना अंना नफ़ीसा सुल्ताना अंना
  • अंजुम रहबर अंजुम रहबर
  • मंज़र भोपाली मंज़र भोपाली
  • मुस्लिम सलीम मुस्लिम सलीम
  • दख़लन भोपाली दख़लन भोपाली
  • रोज़िना तराणेकर दिघे रोज़िना तराणेकर दिघे
  • ग़ौसिया ख़ान सबीन ग़ौसिया ख़ान सबीन
  • रश्मि सबा रश्मि सबा
  • दिलकश सागरी दिलकश सागरी
  • अक़ील जामिद अक़ील जामिद