Sarfraz Khalid's Photo'

सरफ़राज़ ख़ालिद

दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 6

नज़्म 1

 

शेर 47

रौनक़-ए-बज़्म नहीं था कोई तुझ से पहले

रौनक़-ए-बज़्म तिरे बा'द नहीं है कोई

  • शेयर कीजिए

उसी के ख़्वाब थे सारे उसी को सौंप दिए

सो वो भी जीत गया और मैं भी हारा नहीं

  • शेयर कीजिए

दिल जो टूटा है तो फिर याद नहीं है कोई

इस ख़राबे में अब आबाद नहीं है कोई

  • शेयर कीजिए

संबंधित शायर

  • ख़ालिद मुबश्शिर ख़ालिद मुबश्शिर समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • मज़हर इमाम मज़हर इमाम
  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी