Sudarshan Fakir's Photo'

सुदर्शन फ़ाकिर

1934 - 2008 | जालंधर, भारत

सुदर्शन कामरा , कई फ़िल्मों के लिए गीत लिखे

सुदर्शन कामरा , कई फ़िल्मों के लिए गीत लिखे

सुदर्शन फ़ाकिर के शेर

7.7K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

सामने है जो उसे लोग बुरा कहते हैं

जिस को देखा ही नहीं उस को ख़ुदा कहते हैं

तेरे जाने में और आने में

हम ने सदियों का फ़ासला देखा

इश्क़ है इश्क़ ये मज़ाक़ नहीं

चंद लम्हों में फ़ैसला करो

हम तो समझे थे कि बरसात में बरसेगी शराब

आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया

देखने वालो तबस्सुम को करम मत समझो

उन्हें तो देखने वालों पे हँसी आती है

मेरा क़ातिल ही मेरा मुंसिफ़ है

क्या मिरे हक़ में फ़ैसला देगा

तेरी आँखों में हम ने क्या देखा

कभी क़ातिल कभी ख़ुदा देखा

ये सिखाया है दोस्ती ने हमें

दोस्त बन कर कभी वफ़ा करो

मेरे दुख की कोई दवा करो

मुझ को मुझ से अभी जुदा करो

हम से पूछो दोस्ती का सिला

दुश्मनों का भी दिल हिला देगा

ज़िक्र जब होगा मोहब्बत में तबाही का कहीं

याद हम आएँगे दुनिया को हवालों की तरह

रोने वालों से कहो उन का भी रोना रो लें

जिन को मजबूरी-ए-हालात ने रोने दिया

मेरे रुकते ही मिरी साँसें भी रुक जाएँगी

फ़ासले और बढ़ा दो कि मैं ज़िंदा हूँ अभी

आशिक़ी हो कि बंदगी 'फ़ाख़िर'

बे-दिली से तो इब्तिदा करो

एक दो रोज़ का सदमा हो तो रो लें 'फ़ाकिर'

हम को हर रोज़ के सदमात ने रोने दिया

दिल तो रोता रहे ओर आँख से आँसू बहे

इश्क़ की ऐसी रिवायात ने दिल तोड़ दिया

इश्क़ में ग़ैरत-ए-जज़्बात ने रोने दिया

वर्ना क्या बात थी किस बात ने रोने दिया

हर तरफ़ ज़ीस्त की राहों में कड़ी धूप है दोस्त

बस तिरी याद के साए हैं पनाहों की तरह

अपनी सूरत लगी पराई सी

जब कभी हम ने आईना देखा

दिल के दीवार-ओ-दर पे क्या देखा

बस तिरा नाम ही लिखा देखा