noImage

ताबाँ अब्दुल हई

1715 - 1749 | दिल्ली, भारत

शायरी के अलावा अपनी सुंदरता के लिए भी प्रसिद्ध। कम उम्र में देहांत हुआ

शायरी के अलावा अपनी सुंदरता के लिए भी प्रसिद्ध। कम उम्र में देहांत हुआ

ताबाँ अब्दुल हई के शेर

1.7K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

किस किस तरह की दिल में गुज़रती हैं हसरतें

है वस्ल से ज़ियादा मज़ा इंतिज़ार का

कई फ़ाक़ों में ईद आई है

आज तू हो तो जान हम-आग़ोश

दर्द-ए-सर है ख़ुमार से मुझ को

जल्द ले कर शराब साक़ी

मोहब्बत तू मत कर दिल उस बेवफ़ा से

दिल उस बेवफ़ा से मोहब्बत तू मत कर

जब तलक रहे जीता चाहिए हँसे बोले

आदमी को चुप रहना मौत की निशानी है

महफ़िल के बीच सुन के मिरे सोज़-ए-दिल का हाल

बे-इख़्तियार शम्अ के आँसू ढलक पड़े

आतिश-ए-इश्क़ में जो जल मरें

इश्क़ के फ़न में वो अनारी हैं

तुम इस क़दर जो निडर हो के ज़ुल्म करते हो

बुताँ हमारा तुम्हारा कोई ख़ुदा भी है

हवा भी इश्क़ की लगने देता मैं उसे हरगिज़

अगर इस दिल पे होता हाए कुछ भी इख़्तियार अपना

ले मेरी ख़बर चश्म मिरे यार की क्यूँ-कर

बीमार अयादत करे बीमार की क्यूँ-कर

तू भली बात से ही मेरी ख़फ़ा होता है

आह क्या चाहना ऐसा ही बुरा होता है

तू मिल उस से हो जिस से दिल तिरा ख़ुश

बला से तेरी मैं ना-ख़ुश हूँ या ख़ुश

देख क़ासिद को मिरे यार ने पूछा 'ताबाँ'

क्या मिरे हिज्र में जीता है वो ग़मनाक हनूज़

बुरा मानियो मैं पूछता हूँ ज़ालिम

कि बे-कसों के सताए से कुछ भला भी है

यार रूठा है मिरा उस को मनाऊँ किस तरह

मिन्नतें कर पाँव पड़ उस के ले आऊँ किस तरह

मलूँ हों ख़ाक जूँ आईना मुँह पर

तिरी सूरत मुझे आती है जब याद

हो रूह के तईं जिस्म से किस तरह मोहब्बत

ताइर को क़फ़स से भी कहीं हो है मोहब्बत

मुझ से बीमार है मिरा ज़ालिम

ये सितम किस तरह सहूँ 'ताबाँ'

दिल की हसरत रही दिल में मिरे कुछ बाक़ी

एक ही तेग़ लगा ऐसी जल्लाद कि बस

आता नहीं वो यार-ए-सितमगर तो क्या हुआ

कोई ग़म तो उस का दिल से हमारे जुदा नहीं

कर क़त्ल मुझे उन ने आलम में बहुत ढूँडा

जब मुझ सा कुइ पाया जल्लाद बहुत रोया

मैं हो के तिरे ग़म से नाशाद बहुत रोया

रातों के तईं कर के फ़रियाद बहुत रोया

कब पिलावेगा तू साक़ी मुझे जाम-ए-शराब

जाँ-ब-लब हूँ आरज़ू में मय की पैमाने की तरह

है क्या सबब कि यार आया ख़बर के तईं

शायद किसी ने हाल हमारा कहा नहीं

मुझे आता है रोना ऐसी तन्हाई पे 'ताबाँ'

यार अपना दिल अपना तन अपना जाँ अपना

क़िस्मत में क्या है देखें जीते बचें कि मर जाएँ

क़ातिल से अब तो हम ने आँखें लड़ाइयाँ हैं

ज़ाहिद हो और तक़्वा आबिद हो और मुसल्ला

माला हो और बरहमन सहबा हो और हम हों

करता है गर तू बुत-शिकनी तो समझ के कर

शायद कि उन के पर्दे में ज़ाहिद ख़ुदा भी हो

जा वाइज़ की बातों पर हमेशा मय को पी 'ताबाँ'

अबस डरता है तू दोज़ख़ से इक शरई दरक्का है

वो तो सुनता नहीं किसी की बात

उस से मैं हाल क्या कहूँ 'ताबाँ'

इन बुतों को तो मिरे साथ मोहब्बत होती

काश बनता मैं बरहमन ही मुसलमाँ के एवज़

ख़ुदा देवे अगर क़ुदरत मुझे तो ज़िद है ज़ाहिद की

जहाँ तक मस्जिदें हैं मैं बनाऊँ तोड़ बुत-ख़ाना

ज़ाहिद तिरा तो दीन सरासर फ़रेब है

रिश्ते से तेरे सुब्हा के ज़ुन्नार ही भला

मैं तो तालिब दिल से हूँगा दीन का

दौलत-ए-दुनिया मुझे मतलूब नहीं

आइने को तिरी सूरत से हो क्यूँ कर हैरत

दर दीवार तुझे देख के हैरान है आज

जिस का गोरा रंग हो वो रात को खिलता है ख़ूब

रौशनाई शम्अ की फीकी नज़र आती है सुब्ह

ईमान दीं से 'ताबाँ' कुछ काम नहीं है हम को

साक़ी हो और मय हो दुनिया हो और हम हों

रिंद वाइज़ से क्यूँ कि सरबर हो

उस की छू, की किताब और ही है

एक बुलबुल भी चमन में रही अब की फ़सल

ज़ुल्म ऐसा ही किया तू ने सय्याद कि बस

आईना रू-ब-रू रख और अपनी छब दिखाना

क्या ख़ुद-पसंदियाँ हैं क्या ख़ुद-नुमाईयाँ हैं

वे शख़्स जिन से फ़ख़्र जहाँ को था अब वे हाए

ऐसे गए कि उन का कहीं नाम ही नहीं

हरम को छोड़ रहूँ क्यूँ बुत-कदे में शैख़

कि याँ हर एक को है मर्तबा ख़ुदाई का

सोहबत-ए-शैख़ में तू रात को जाया मत कर

वो सिखा देगा तुझे जान नमाज़-ए-माकूस

आता है मोहतसिब पए-ताज़ीर मय-कशो

पगड़ी को उस की फेंक दो दाढ़ी को लो उखाड़

दुनिया कि नेक बद से मुझे कुछ ख़बर नहीं

इतना नहीं जहाँ मैं कोई बे-ख़बर कि हम

तू कौन है वाइज़ जो मुझ को डराता है

मैं की भी हैं तो की हैं अल्लाह की तक़्सीरें

यार से अब के गर मिलूँ 'ताबाँ'

तो फिर उस से जुदा हूँ 'ताबाँ'

'ताबाँ' ज़ि-बस हवा-ए-जुनूँ सर में है मिरे

अब मैं हूँ और दश्त है ये सर है और पहाड़

ये जो हैं अहल-ए-रिया आज फ़क़ीरों के बीच

कल गिनेंगे हुमक़ा उन ही को पीरों के बीच

यहाँ यार और बरदार कोई नहीं किसी का

दुनिया के बीच 'ताबाँ' हम किस से दिल लगावें

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए