533
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हम दुनिया से जब तंग आया करते हैं

अपने साथ इक शाम मनाया करते हैं

सफ़र में होती है पहचान कौन कैसा है

ये आरज़ू थी मिरे साथ तू सफ़र करता

मिरी तवज्जोह फ़क़त मिरे काम पर रहेगी

मैं ख़ुद को साबित करूँगा दावा नहीं करूँगा

मैं ने बख़्श दी तिरी क्यूँ ख़ता तुझे इल्म है

तुझे दी है कितनी कड़ी सज़ा तुझे इल्म है

फिर जो करने लगा है तू व'अदा

क्या मुकरने का फिर इरादा है

उतार लफ़्ज़ों का इक ज़ख़ीरा ग़ज़ल को ताज़ा ख़याल दे दे

ख़ुद अपनी शोहरत पे रश्क आए सुख़न में ऐसा कमाल दे दे

सूरज के उस जानिब बसने वाले लोग

अक्सर हम को पास बुलाया करते हैं

तुझे मैं अपना नहीं समझता इसी लिए तो

ज़माने तुझ से मैं कोई शिकवा नहीं करूँगा

ये जंग जीत है किस की ये हार किस की है

ये फ़ैसला मिरी टूटी कमान से होगा

ज़िंदगी भर की रियाज़त मिरी बे-कार गई

इक ख़याल आया था बदले में वो क्या देता है

ज़िंदगी जंग है आसाब की और ये भी सुनो

इश्क़ आसाब को मज़बूत बना देता है

मकाँ से होगा कभी ला-मकान से होगा

मिरा ये म'अरका दोनों जहान से होगा

ख़ुशी ज़रूर थी 'तैमूर' दिन निकलने की

मगर ये ग़म भी सिवा था कि रात बीत गई