Ummeed Fazli's Photo'

उम्मीद फ़ाज़ली

1923 - 2005 | कराची, पाकिस्तान

कराची के लोकप्रिय उर्दू शायर और प्रसिद्ध शायर निदा फ़ाज़ली के भाई

कराची के लोकप्रिय उर्दू शायर और प्रसिद्ध शायर निदा फ़ाज़ली के भाई

उम्मीद फ़ाज़ली के शेर

4.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

चमन में रखते हैं काँटे भी इक मक़ाम दोस्त

फ़क़त गुलों से ही गुलशन की आबरू तो नहीं

ये सर्द रात ये आवारगी ये नींद का बोझ

हम अपने शहर में होते तो घर गए होते

आसमानों से फ़रिश्ते जो उतारे जाएँ

वो भी इस दौर में सच बोलें तो मारे जाएँ

जाने किस मोड़ पे ले आई हमें तेरी तलब

सर पे सूरज भी नहीं राह में साया भी नहीं

गर क़यामत ये नहीं है तो क़यामत क्या है

शहर जलता रहा और लोग घर से निकले

दोपहर की धूप बता क्या जवाब दूँ

दीवार पूछती है कि साया किधर गया

ये ख़ुद-फ़रेबी-ए-एहसास-ए-आरज़ू तो नहीं

तिरी तलाश कहीं अपनी जुस्तुजू तो नहीं

घर तो ऐसा कहाँ का था लेकिन

दर-ब-दर हैं तो याद आता है

कल उस की आँख ने क्या ज़िंदा गुफ़्तुगू की थी

गुमान तक हुआ वो बिछड़ने वाला है

वो ख़्वाब ही सही पेश-ए-नज़र तो अब भी है

बिछड़ने वाला शरीक-ए-सफ़र तो अब भी है

मक़्तल-ए-जाँ से कि ज़िंदाँ से कि घर से निकले

हम तो ख़ुशबू की तरह निकले जिधर से निकले

सुकूत वो भी मुसलसल सुकूत क्या मअनी

कहीं यही तिरा अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू तो नहीं

जाने कब तूफ़ान बने और रस्ता रस्ता बिछ जाए

बंद बना कर सो मत जाना दरिया आख़िर दरिया है

तिरी तलाश में जाने कहाँ भटक जाऊँ

सफ़र में दश्त भी आता है घर भी आता है

जब से 'उम्मीद' गया है कोई!!

लम्हे सदियों की अलामत ठहरे