noImage

वली उज़लत

1692 - 1775 | हैदराबाद, भारत

उर्दू शायरी को परम्परा निर्माण करने वाले अग्रणी शायरों में शामिल

उर्दू शायरी को परम्परा निर्माण करने वाले अग्रणी शायरों में शामिल

100
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हिन्दू मुस्लिमीन हैं हिर्स-ओ-हवा-परसत

हो आश्ना-परस्त वही है ख़ुदा-परस्त

तिरी ज़ुल्फ़ की शब का बेदार मैं हूँ

तुझ आँखों के साग़र का मय-ख़्वार मैं हूँ

सहज याद गया वो लाल होली-बाज़ जूँ दिल में

गुलाली हो गया तन पर मिरे ख़िर्क़ा जो उजला था

मोहकमे में इश्क़ के है यारो दीवाने का शोर

मेरे दिल देने का ग़ुल उस के मुकर जाने का शोर

वो पल में जल-बुझा और ये तमाम रात जला

हज़ार बार पतिंगे से है चराग़ भला

बाद-ए-बहार में सब आतिश जुनून की है

हर साल आवती है गर्मी में फ़स्ल-ए-होली

सख़्त पिस्ताँ तिरे चुभे दिल में

अपने हाथों से मैं ख़राब हुआ

गए सब मर्द रह गए रहज़न अब उल्फ़त से कामिल हूँ

दिल वालो मैं इन दिल वालियों से सख़्त बे-दिल हूँ

इश्क़ गोरे हुस्न का आशिक़ के दिल को दे जला

साँवलों के आशिक़ों का दिल है काला कोएला

जो हम ये तिफ़लों के संग-ए-जफ़ा के मारे हैं

बुतों का शिकवा नहीं हम ख़ुदा के मारे हैं

हम उस की ज़ुल्फ़ की ज़ंजीर में हुए हैं असीर

सजन के सर की बला पड़ी हमारे गले

उस को पहुँची ख़बर कि जीता हूँ

किसी दुश्मन सेती सुना होगा

तल्ख़ लगता है उसे शहर की बस्ती का स्वाद

ज़ौक़ है जिस को बयाबाँ के निकल जाने का

सालिक इंतिज़ार-ए-हज में क्या तू हक्का-बक्का है

बगूले सा तो कर ले तौफ़ दिल पहलू में मक्का है

ग़नीमत बूझ लेवें मेरे दर्द-आलूद नालों को

ये दीवाना बहुत याद आएगा शहरी ग़ज़ालों को

जपे है विर्द सा तुझ से सनम के नाम को शैख़

नमाज़ तोड़ उठे तेरे राम राम को शैख़

जो आशिक़ हो उसे सहरा में चल जाने से क्या निस्बत

जुज़ अपनी धूल उड़ाना और वीराने से क्या निस्बत

जिस पर नज़र पड़े उसे ख़ुद से निकालना

रौशन-दिलों का काम है मानिंद-ए-आईना

जावे थी जासूसी-ए-मजनूँ को ता राहत ले

वर्ना कब लैला को था सहरा में जाने का दिमाग़

मैं सहरा जा के क़ब्र-ए-हज़रत-ए-मजनूँ को देखा था

ज़ियारत करते थे आहू बगूला तौफ़ करता था

जल्द मर गए तिरी हसरत सेती हम

कि तिरा देर का आना गया

इस ज़माने में बुज़ुर्गी सिफ़्लगी का नाम है

जिस की टिकिया में फिरे उँगली सो हो जावे तिरा

सिया है ज़ख़्म-ए-बुलबुल गुल ने ख़ार और बोईगुलशन से

सूई तागा हमारे चाक-ए-दिल का है कहाँ देखें

कुछ ग़ौर का जौहर नहीं ख़ुद-फ़हमी में हैराँ हैं

इस अस्र के फ़ाज़िल सब सतही हैं जूँ आईना

कहा जो मैं ने गया ख़त से हाए तेरा हुस्न

तो हँस के मुझ को कहा पश्म से गया तो गया

पीर हो शैख़ हुआ है देखो तिफ़्लों का मुरीद

मुर्दा बोला है कफ़न फाड़ क़यामत आई

तिरी वहशत की सरसर से उड़ा जूँ पात आँधी का

मिरा दिल हाथ से खोया तो तेरे हाथ क्या आया

जा कर फ़ना के उस तरफ़ आसूदा मैं हुआ

मैं आलम-ए-अदम में भी देखा मज़ा था