Zia Faruqi's Photo'

ज़िया फ़ारूक़ी

1947 | भोपाल, भारत

ज़िया फ़ारूक़ी

पुस्तकें 7

 

वीडियो 6

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Main sochta hoon ye zard mausam jo mere chehre pe jam gaya hai

Ziya Farooqi was born on 1st Aug 1947 at Sandela but spent a larger part of his life in Kanpur and Bhopal. Watch him reading some of his best Urdu poetry for Rekhta Studio. ज़िया फ़ारूक़ी

अपने होने का हर इक लम्हा पता देती हुई

ज़िया फ़ारूक़ी

इश्क़ ने कर दिया क्या क्या सुख़न-आरा तिरे नाम

ज़िया फ़ारूक़ी

मैं जब भी तिरे शहर-ए-ख़ुश-ए-आसार से निकला

ज़िया फ़ारूक़ी

मिरी आँखों में जो थोड़ी सी नमी रह गई है

ज़िया फ़ारूक़ी

ये ख़्वाब सारे

ये ख़्वाब सारे ज़िया फ़ारूक़ी

ऑडियो 5

अपने होने का हर इक लम्हा पता देती हुई

इश्क़ ने कर दिया क्या क्या सुख़न-आरा तिरे नाम

मैं जब भी तिरे शहर-ए-ख़ुश-ए-आसार से निकला

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"भोपाल" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए