Ain Tabish's Photo'

ऐन ताबिश

1958 | पटना, भारत

प्रसिद्ध समकालीन शायर, अपनी नज़्मों के लिए मशहूर

प्रसिद्ध समकालीन शायर, अपनी नज़्मों के लिए मशहूर

72
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जी लगा रक्खा है यूँ ताबीर के औहाम से

ज़िंदगी क्या है मियाँ बस एक घर ख़्वाबों का है

बे-हुनर देख सकते थे मगर देखने आए

देख सकते थे मगर अहल-ए-हुनर देख पाए

एक ख़ुश्बू थी जो मल्बूस पे ताबिंदा थी

एक मौसम था मिरे सर पे जो तूफ़ानी था

है एक ही लम्हा जो कहीं वस्ल कहीं हिज्र

तकलीफ़ किसी के लिए आराम किसी का

इसी क़दर है हयात अजल के बीच का फ़र्क़

ये एक धूप का दरिया वो इक किनारा-ए-शाम

आज भी उस के मिरे बीच है दुनिया हाइल

आज भी उस के मिरे बीच की मुश्किल है वही

एक बस्ती थी हुई वक़्त के अंदोह में गुम

चाहने वाले बहुत अपने पुराने थे उधर

इक ज़रा चैन भी लेते नहीं 'ताबिश'-साहब

मुल्क-ए-ग़म से नए फ़रमान निकल आते हैं

जहाँ अपने अज़ीज़ों की दीद होती है

ज़मीन-ए-हिज्र पे भी कोई ईद होती है

मैं उस घड़ी अपने आप का सामना भी करने से भागता हूँ

वो ज़ीना ज़ीना उतरने वाली शबीह जब मुझ में जागती है

रोज़ इक मर्ग का आलम भी गुज़रता है यहाँ

रोज़ जीने के भी सामान निकल आते हैं

तू जो इस दुनिया की ख़ातिर अपना-आप गँवाता है

दिल-ए-मन मेरे मुसाफ़िर काम है ये नादानों का

मैं अपना कार-ए-वफ़ा आज़माऊँगा फिर भी

कहाँ मैं तेरे सितम याद करने वाला हूँ

हर ऐसे-वैसे से क़ुफ़्ल-ए-क़फ़स नहीं खुलता

इस इम्तिहाँ के लिए कुछ हक़ीर होते हैं