Ahmad Nadeem Qasmi's Photo'

अहमद नदीम क़ासमी

1916 - 2006 | लाहौर, पाकिस्तान

पाकिस्तान के शीर्ष प्रगतिशील शायर/कहानीकारों में भी महत्वपूर्ण स्थान/सआदत हसन मंटो के समकालीन

पाकिस्तान के शीर्ष प्रगतिशील शायर/कहानीकारों में भी महत्वपूर्ण स्थान/सआदत हसन मंटो के समकालीन

आख़िर दुआ करें भी तो किस मुद्दआ के साथ

कैसे ज़मीं की बात कहें आसमाँ से हम

कौन कहता है कि मौत आई तो मर जाऊँगा

मैं तो दरिया हूँ समुंदर में उतर जाऊँगा

कुछ खेल नहीं है इश्क़ करना

ये ज़िंदगी भर का रत-जगा है

मैं ने समझा था कि लौट आते हैं जाने वाले

तू ने जा कर तो जुदाई मिरी क़िस्मत कर दी

जिस भी फ़नकार का शहकार हो तुम

उस ने सदियों तुम्हें सोचा होगा

मर जाता हूँ जब ये सोचता हूँ

मैं तेरे बग़ैर जी रहा हूँ

उस वक़्त का हिसाब क्या दूँ

जो तेरे बग़ैर कट गया है

सुब्ह होते ही निकल आते हैं बाज़ार में लोग

गठरियाँ सर पे उठाए हुए ईमानों की

मुसाफ़िर ही मुसाफ़िर हर तरफ़ हैं

मगर हर शख़्स तन्हा जा रहा है

ख़ुदा करे कि तिरी उम्र में गिने जाएँ

वो दिन जो हम ने तिरे हिज्र में गुज़ारे थे

अंदाज़ हू-ब-हू तिरी आवाज़-ए-पा का था

देखा निकल के घर से तो झोंका हवा का था

आज की रात भी तन्हा ही कटी

आज के दिन भी अंधेरा होगा

इक सफ़ीना है तिरी याद अगर

इक समुंदर है मिरी तन्हाई

तुझ से किस तरह मैं इज़हार-ए-तमन्ना करता

लफ़्ज़ सूझा तो मआ'नी ने बग़ावत कर दी

मैं कश्ती में अकेला तो नहीं हूँ

मिरे हमराह दरिया जा रहा है

इक उम्र के बा'द मुस्कुरा कर

तू ने तो मुझे रुला दिया है

इतना मानूस हूँ सन्नाटे से

कोई बोले तो बुरा लगता है

सारी दुनिया हमें पहचानती है

कोई हम सा भी तन्हा होगा

भरी दुनिया में फ़क़त मुझ से निगाहें चुरा

इश्क़ पर बस चलेगा तिरी दानाई का

किस तवक़्क़ो पे किसी को देखें

कोई तुम से भी हसीं क्या होगा

जन्नत मिली झूटों को अगर झूट के बदले

सच्चों को सज़ा में है जहन्नम भी गवारा

फ़रेब खाने को पेशा बना लिया हम ने

जब एक बार वफ़ा का फ़रेब खा बैठे

मुझ को दुश्मन के इरादों पे भी प्यार आता है

तिरी उल्फ़त ने मोहब्बत मिरी आदत कर दी

दिल गया था तो ये आँखें भी कोई ले जाता

मैं फ़क़त एक ही तस्वीर कहाँ तक देखूँ

ज़िंदगी शम्अ की मानिंद जलाता हूँ 'नदीम'

बुझ तो जाऊँगा मगर सुबह तो कर जाऊँगा

उन का आना हश्र से कुछ कम था

और जब पलटे क़यामत ढा गए

मैं तेरे कहे से चुप हूँ लेकिन

चुप भी तो बयान-ए-मुद्दआ है

मिरे ख़ुदा ने किया था मुझे असीर-ए-बहिश्त

मिरे गुनह ने रिहाई मुझे दिलाई है

पा कर भी तो नींद उड़ गई थी

खो कर भी तो रत-जगे मिले हैं

मुझे मंज़ूर गर तर्क-ए-तअल्लुक़ है रज़ा तेरी

मगर टूटेगा रिश्ता दर्द का आहिस्ता आहिस्ता

तू ने यूँ देखा है जैसे कभी देखा ही था

मैं तो दिल में तिरे क़दमों के निशाँ तक देखूँ

अजब तज़ाद में काटा है ज़िंदगी का सफ़र

लबों पे प्यास थी बादल थे सर पे छाए हुए

ख़ुद को तो 'नदीम' आज़माया

अब मर के ख़ुदा को आज़माऊँ

मिरा वजूद मिरी रूह को पुकारता है

तिरी तरफ़ भी चलूँ तो ठहर ठहर जाऊँ

लोग कहते हैं कि साया तिरे पैकर का नहीं

मैं तो कहता हूँ ज़माने पे है साया तेरा

उम्र भर संग-ज़नी करते रहे अहल-ए-वतन

ये अलग बात कि दफ़नाएँगे एज़ाज़ के साथ

आग़ोश में महकोगे दिखाई नहीं दोगे

तुम निकहत-ए-गुलज़ार हो हम पर्दा-ए-शब हैं

शाम को सुब्ह-ए-चमन याद आई

किस की ख़ुशबू-ए-बदन याद आई

किस दिल से करूँ विदाअ' तुझ को

टूटा जो सितारा बुझ गया है

हर लम्हा अगर गुरेज़-पा है

तू क्यूँ मिरे दिल में बस गया है

तुम मिरे इरादों के डोलते सितारों को

यास के ख़लाओं में रास्ता दिखाते हो

जकड़ी हुई है इन में मिरी सारी काएनात

गो देखने में नर्म है तेरी कलाइयाँ

यकसाँ हैं फ़िराक़-ए-वस्ल दोनों

ये मरहले एक से कड़े हैं

ग़म-ए-जानाँ ग़म-ए-दौराँ की तरफ़ यूँ आया

जानिब शहर चले दुख़्तर-ए-दहक़ाँ जैसे