गेसू-ए-ताबदार को और भी ताबदार कर

अल्लामा इक़बाल

गेसू-ए-ताबदार को और भी ताबदार कर

अल्लामा इक़बाल

MORE BY अल्लामा इक़बाल

    INTERESTING FACT

    बाल-ए-जिब्रील

    गेसू-ए-ताबदार को और भी ताबदार कर

    होश ख़िरद शिकार कर क़ल्ब नज़र शिकार कर

    Your lustrous tresses my dear Lord further illuminate

    The power of my senses, heart and consciousness negate

    इश्क़ भी हो हिजाब में हुस्न भी हो हिजाब में

    या तो ख़ुद आश्कार हो या मुझे आश्कार कर

    Love too is now clandestine, and beauty too is veiled

    You, either should reveal me or, should come in open state

    तू है मुहीत-ए-बे-कराँ मैं हूँ ज़रा सी आबजू

    या मुझे हम-कनार कर या मुझे बे-कनार कर

    You are a mighty ocean, I, a droplet of no size

    Either make me, too, immense or then assimilate

    मैं हूँ सदफ़ तो तेरे हाथ मेरे गुहर की आबरू

    मैं हूँ ख़ज़फ़ तो तू मुझे गौहर-ए-शाहवार कर

    If I an oyster be, my pearl's dignity's with thee

    A pearl of regal lustre, if a grain of sand, create

    नग़्मा-ए-नौ-बहार अगर मेरे नसीब में हो

    उस दम-ए-नीम-सोज़ को ताइरक-ए-बहार कर

    Turn this fleeting moment to a day of joyous spring

    If melodies of spring are not ordained to be my fate

    बाग़-ए-बहिश्त से मुझे हुक्म-ए-सफ़र दिया था क्यूँ

    कार-ए-जहाँ दराज़ है अब मिरा इंतिज़ार कर

    Why did you bid me leave from paradise for now

    My work is yet unfinished here so you wil have to wait

    रोज़-ए-हिसाब जब मिरा पेश हो दफ़्तर-ए-अमल

    आप भी शर्मसार हो मुझ को भी शर्मसार कर

    On the day of reckoning when, you behold my slate

    You will shame me and yourself you will humiliate

    वीडियो
    This video is playing from YouTube

    Videos
    This video is playing from YouTube

    फरीहा परवेज़

    फरीहा परवेज़

    RECITATIONS

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    नोमान शौक़

    गेसू-ए-ताबदार को और भी ताबदार कर नोमान शौक़

    Additional information available

    Click on the INTERESTING button to view additional information associated with this sher.

    OKAY

    About this sher

    Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Morbi volutpat porttitor tortor, varius dignissim.

    Close

    rare Unpublished content

    This ghazal contains ashaar not published in the public domain. These are marked by a red line on the left.

    OKAY

    Added to your favorites

    Removed from your favorites