ग़ज़ल 12

शेर 10

बड़े सुकून से अफ़्सुर्दगी में रहता हूँ

मैं अपने सामने वाली गली में रहता हूँ

  • शेयर कीजिए

ज़ख़्म और पेड़ ने इक साथ दुआ माँगी है

देखिए पहले यहाँ कौन हरा होता है

  • शेयर कीजिए

फ़लक से कैसे मिरा ग़म दिखाई देगा तुझे

कभी ज़मीन पे और ज़मीं से देख मुझे

  • शेयर कीजिए

मियाँ ये इश्क़ तो सब टूट कर ही करते हैं

किसी से हिज्र अगर वालिहाना हो जाए

  • शेयर कीजिए

सब मुझे ढूँडने निकले हैं बुझा कर आँखें

बात निकली है कि मैं ख़्वाब में पाया गया हूँ

  • शेयर कीजिए

क़ितआ 8

चित्र शायरी 1

ज़ख़्म और पेड़ ने इक साथ दुआ माँगी है देखिए पहले यहाँ कौन हरा होता है

 

संबंधित शायर

  • दिलावर अली आज़र दिलावर अली आज़र समकालीन

"मुल्तान" के और शायर

  • ग़ुलाम हुसैन साजिद ग़ुलाम हुसैन साजिद
  • अर्श सिद्दीक़ी अर्श सिद्दीक़ी
  • क़मर रज़ा शहज़ाद क़मर रज़ा शहज़ाद
  • मोहसिन नक़वी मोहसिन नक़वी
  • असलम अंसारी असलम अंसारी
  • ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क
  • हिना अंबरीन हिना अंबरीन
  • अतहर नासिक अतहर नासिक
  • अरशद अब्बास ज़की अरशद अब्बास ज़की
  • रम्ज़ी असीम रम्ज़ी असीम