Abroo Shah Mubarak's Photo'

आबरू शाह मुबारक

1685 - 1733 | दिल्ली, भारत

उर्दू शायरी के निर्माताओं में से एक, मीर तक़ी मीर के समकालीन।

उर्दू शायरी के निर्माताओं में से एक, मीर तक़ी मीर के समकालीन।

ग़ज़ल

उस ज़ुल्फ़-ए-जाँ कूँ सनम की बला कहो

फ़सीह अकमल

बढ़े है दिन-ब-दिन तुझ मुख की ताब आहिस्ता आहिस्ता

फ़सीह अकमल

मगर तुम सीं हुआ है आश्ना दिल

फ़सीह अकमल

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI