Abroo Shah Mubarak's Photo'

आबरू शाह मुबारक

1685 - 1733 | दिल्ली, भारत

उर्दू शायरी के निर्माताओं में से एक, मीर तक़ी मीर के समकालीन।

उर्दू शायरी के निर्माताओं में से एक, मीर तक़ी मीर के समकालीन।

दूर ख़ामोश बैठा रहता हूँ

इस तरह हाल दिल का कहता हूँ

क़ौल 'आबरू' का था कि जाऊँगा उस गली

हो कर के बे-क़रार देखो आज फिर गया

तुम्हारे लोग कहते हैं कमर है

कहाँ है किस तरह की है किधर है

आज यारों को मुबारक हो कि सुब्ह-ए-ईद है

राग है मय है चमन है दिलरुबा है दीद है

ख़ुदावंदा करम कर फ़ज़्ल कर अहवाल पर मेरे

नज़र कर आप पर मत कर नज़र अफ़आल पर मेरे

तुम नज़र क्यूँ चुराए जाते हो

जब तुम्हें हम सलाम करते हैं

बोसाँ लबाँ सीं देने कहा कह के फिर गया

प्याला भरा शराब का अफ़्सोस गिर गया

अगर देखे तुम्हारी ज़ुल्फ़ ले डस

उलट जावे कलेजा नागनी का

बोसे में होंट उल्टा आशिक़ का काट खाया

तेरा दहन मज़े सीं पुर है पे है कटोरा

क्या सबब तेरे बदन के गर्म होने का सजन

आशिक़ों में कौन जलता था गले किस के लगा

उस वक़्त जान प्यारे हम पावते हैं जी सा

लगता है जब बदन से तैरे बदन हमारा

उस वक़्त दिल पे क्यूँके कहूँ क्या गुज़र गया

बोसा लेते लिया तो सही लेक मर गया

दिखाई ख़्वाब में दी थी टुक इक मुँह की झलक हम कूँ

नहीं ताक़त अँखियों के खोलने की अब तलक हम कूँ

जलता है अब तलक तिरी ज़ुल्फ़ों के रश्क से

हर-चंद हो गया है चमन का चराग़ गुल

यारो हमारा हाल सजन सीं बयाँ करो

ऐसी तरह करो कि उसे मेहरबाँ करो

यूँ 'आबरू' बनावे दिल में हज़ार बातें

जब रू-ब-रू हो तेरे गुफ़्तार भूल जावे

नमकीं गोया कबाब हैं फीके शराब के

बोसा है तुझ लबाँ का मज़े-दार चटपटा

दिल कब आवारगी को भूला है

ख़ाक अगर हो गया बगूला है

मिल गईं आपस में दो नज़रें इक आलम हो गया

जो कि होना था सो कुछ अँखियों में बाहम हो गया

इश्क़ का तीर दिल में लागा है

दर्द जो होवता था भागा है

क्यूँ तिरी थोड़ी सी गर्मी सीं पिघल जावे है जाँ

क्या तू नें समझा है आशिक़ इस क़दर है मोम का

अफ़्सोस है कि बख़्त हमारा उलट गया

आता तो था पे देख के हम कूँ पलट गया

कभी बे-दाम ठहरावें कभी ज़ंजीर करते हैं

ये ना-शाएर तिरी ज़ुल्फ़ाँ कूँ क्या क्या नाम धरते हैं

आग़ोश सीं सजन के हमन कूँ किया कनार

मारुँगा इस रक़ीब कूँ छड़ियों से गोद गोद

अब दीन हुआ ज़माना-साज़ी

आफ़ाक़ तमाम दहरिया है

ख़ुद अपनी आदमी को बड़ी क़ैद-ए-सख़्त है

फोड़ आईना तोड़ सिकंदर की सद के तईं

डर ख़ुदा सीं ख़ूब नईं ये वक़्त-ए-क़त्ल-ए-आम कूँ

सुब्ह कूँ खोला कर इस ज़ुल्फ़-ए-ख़ून-आशाम कूँ

ग़म से हम सूख जब हुए लकड़ी

दोस्ती का निहाल डाल काट

ग़म सीं अहल-ए-बैत के जी तो तिरा कुढ़ता नहीं

यूँ अबस पढ़ता फिरा जो मर्सिया तो क्या हुआ

तुम्हारे देखने के वास्ते मरते हैं हम खल सीं

ख़ुदा के वास्ते हम सीं मिलो कर किसी छल सीं

दिलदार की गली में मुकर्रर गए हैं हम

हो आए हैं अभी तो फिर कर गए हैं हम

जब कि ऐसा हो गंदुमी माशूक़

नित गुनहगार क्यूँ हो आदम

क्यूँ मलामत इस क़दर करते हो बे-हासिल है ये

लग चुका अब छूटना मुश्किल है उस का दिल है ये

इश्क़ की सफ़ मनीं नमाज़ी सब

'आबरू' को इमाम करते हैं

कम मत गिनो ये बख़्त-सियाहों का रंग-ए-ज़र्द

सोना वही जो होवे कसौटी कसा हुआ

जंगल के बीच वहशत घर में जफ़ा कुल्फ़त

दिल बता कि तेरे मारे हम अब किधर जाँ

ग़म के पीछो रास्त कहते हैं कि शादी होवे है

हज़रत-ए-रमज़ां गए तशरीफ़ ले अब ईद है

ब्यारे तिरे नयन कूँ आहू कहे जो कोई

वो आदमी नहीं है हैवान है बेचारा

मुफ़्लिसी सीं अब ज़माने का रहा कुछ हाल नईं

आसमाँ चर्ख़ी के जूँ फिरता है लेकिन माल नईं

दिल्ली में दर्द-ए-दिल कूँ कोई पूछता नहीं

मुझ कूँ क़सम है ख़्वाजा-क़ुतुब के मज़ार की

क्यूँ कर उस के सुनने को करें सब यार भीड़

'आबरू' ये रेख़्ता तू नीं कहा है धूम का

जो लौंडा छोड़ कर रंडी को चाहे

वो कुइ आशिक़ नहीं है बुल-हवस है

मालूम अब हुआ है हिन्द बीच हम कूँ

लगते हैं दिल-बराँ के लब रंग-ए-पाँ से क्या ख़ूब

साथ मेरे तेरे जो दुख था सो प्यारे ऐश था

जब सीं तू बिछड़ा है तब सीं ऐश सब ग़म हो गया

क्यूँ कर बड़ा जाने मुंकिर नपे को अपने

इंकार उस का नाना और शैख़ है नवासा

जब सीं तिरे मुलाएम गालों में दिल धँसा है

नर्मी सूँ दिल हुआ है तब सूँ रुई का गाला

इक अर्ज़ सब सीं छुप कर करनी है हम कूँ तुम सीं

राज़ी हो गर कहो तो ख़ल्वत में के कर जाँ

तिरा हर उज़्व प्यारे ख़ुश-नुमा है उज़्व-ए-दीगर सीं

मिज़ा सीं ख़ूब-तर अबरू अबरू सीं भली अँखियाँ

तुझ हुस्न के बाग़ में सिरीजन

ख़ुर्शीद गुल-ए-दोपहरिया है

मैं निबल तन्हा इस दुनिया की सोहबत सीं हुआ

रुस्तमों कूँ कर दिया है ना-तवाँ इंज़ाल नीं