4.8K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

किसी को साल-ए-नौ की क्या मुबारकबाद दी जाए

कैलन्डर के बदलने से मुक़द्दर कब बदलता है

मैं तकिए पर सितारे बो रहा हूँ

जनम-दिन है अकेला रो रहा हूँ

अब तो ख़ुद अपनी ज़रूरत भी नहीं है हम को

वो भी दिन थे कि कभी तेरी ज़रूरत हम थे

एक ही शहर में रहना है मगर मिलना नहीं

देखते हैं ये अज़िय्यत भी गवारा कर के

अजब नशा है तिरे क़ुर्ब में कि जी चाहे

ये ज़िंदगी तिरी आग़ोश में गुज़र जाए

हम तिरे ख़्वाबों की जन्नत से निकल कर गए

देख तेरा क़स्र-ए-आली-शान ख़ाली कर दिया

तुम्हें जब कभी मिलें फ़ुर्सतें मिरे दिल से बोझ उतार दो

मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो

फिर वही लम्बी दो-पहरें हैं फिर वही दिल की हालत है

बाहर कितना सन्नाटा है अंदर कितनी वहशत है

इन दूरियों ने और बढ़ा दी हैं क़ुर्बतें

सब फ़ासले वबा की तवालत से मिट गए

डाइरी में सारे अच्छे शेर चुन कर लिख लिए

एक लड़की ने मिरा दीवान ख़ाली कर दिया

किसे पाने की ख़्वाहिश है कि 'साजिद'

मैं रफ़्ता रफ़्ता ख़ुद को खो रहा हूँ

गुफ़्तुगू देर से जारी है नतीजे के बग़ैर

इक नई बात निकल आती है हर बात के साथ

रिहा कर दे क़फ़स की क़ैद से घायल परिंदे को

किसी के दर्द को इस दिल में कितने साल पालेगा

मेरी पोशाक तो पहचान नहीं है मेरी

दिल में भी झाँक मिरी ज़ाहिरी हालत पे जा

ये बरसों का तअल्लुक़ तोड़ देना चाहते हैं हम

अब अपने आप को भी छोड़ देना चाहते हैं हम

तअल्लुक़ात में गहराइयाँ तो अच्छी हैं

किसी से इतनी मगर क़ुर्बतें भी ठीक नहीं

जो मिरी शबों के चराग़ थे जो मिरी उमीद के बाग़ थे

वही लोग हैं मिरी आरज़ू वही सूरतें मुझे चाहिएँ

जिस को हम ने चाहा था वो कहीं नहीं इस मंज़र में

जिस ने हम को प्यार किया वो सामने वाली मूरत है

फूल थे रंग थे लम्हों की सबाहत हम थे

ऐसे ज़िंदा थे कि जीने की अलामत हम थे

तअल्लुक़ किर्चियों की शक्ल में बिखरा तो है फिर भी

शिकस्ता आईनों को जोड़ देना चाहते हैं हम

मुख़्तलिफ़ अपनी कहानी है ज़माने भर से

मुनफ़रिद हम ग़म-ए-हालात लिए फिरते हैं

दिए मुंडेर रख आते हैं हम हर शाम जाने क्यूँ

शायद उस के लौट आने का कुछ इम्कान अभी बाक़ी है

जुदाइयों की ख़लिश उस ने भी ज़ाहिर की

छुपाए अपने ग़म इज़्तिराब मैं ने भी

रस्ते का इंतिख़ाब ज़रूरी सा हो गया

अब इख़्तिताम-ए-बाब ज़रूरी सा हो गया

भीड़ है बर-सर-ए-बाज़ार कहीं और चलें

मिरे दिल मिरे ग़म-ख़्वार कहीं और चलें

इतना पसपा हो दीवार से लग जाएगा

इतने समझौते कर सूरत-ए-हालात के साथ

मुझे अपने रूप की धूप दो कि चमक सकें मिरे ख़ाल-ओ-ख़द

मुझे अपने रंग में रंग दो मिरे सारे रंग उतार दो

छोटे छोटे कई बे-फ़ैज़ मफ़ादात के साथ

लोग ज़िंदा हैं अजब सूरत-ए-हालात के साथ

ग़ज़ल फ़ज़ा भी ढूँडती है अपने ख़ास रंग की

हमारा मसअला फ़क़त क़लम दवात ही नहीं

बरसों ब'अद हमें देखा तो पहरों उस ने बात की

कुछ तो गर्द-ए-सफ़र से भाँपा कुछ आँखों से जान लिया

मकीनों के तअल्लुक़ ही से याद आती है हर बस्ती

वगरना सिर्फ़ बाम-ओ-दर से उल्फ़त कौन रखता है

पहले ग़म-ए-फ़ुर्क़त के ये तेवर तो नहीं थे

रग रग में उतरती हुई तन्हाई तो अब है

ये जो फूलों से भरा शहर हुआ करता था

उस के मंज़र हैं दिल-आज़ार कहीं और चलें