दिल-लगी शायरी

दिल ही इश्क़ और मोहब्बत का मर्कज़ होता है। दिल लगना, दिल जुदा होना, दिल टूटना, दिल-जला होना ये और इस तरह की दूसरी लफ़्ज़ियात दिल की इसी मर्कज़िय्यत की तरफ़ इशारा करती हैं। दिल-लगी के तहत हम ने जो अशआर जमा किए हैं उन में आप दिल-लगी की मज़ेदार, कभी हंसा देने वाली और कभी रुला देने वाली सूरतों से गुज़़रेंगे। ये शायरी आशिक़ों के लिए एक सबक़ भी है जिसे पढ़ कर वो ख़ुद को दिल-लगी के सफ़र के लिए तैयार भी कर सकते हैं।

बेहतर तो है यही कि दुनिया से दिल लगे

पर क्या करें जो काम बे-दिल-लगी चले

शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

दिल लगाओ तो लगाओ दिल से दिल

दिल-लगी ही दिल-लगी अच्छी नहीं

हफ़ीज़ जालंधरी

दर्द-ए-दिल की उन्हें ख़बर क्या हो

जानता कौन है पराई चोट

फ़ानी बदायुनी

दिल-लगी में हसरत-ए-दिल कुछ निकल जाती तो है

बोसे ले लेते हैं हम दो-चार हँसते बोलते

मुंशी अमीरुल्लाह तस्लीम

फिर वही लम्बी दो-पहरें हैं फिर वही दिल की हालत है

बाहर कितना सन्नाटा है अंदर कितनी वहशत है

ऐतबार साजिद

कोई दिल-लगी दिल लगाना नहीं है

क़यामत है ये दिल का आना नहीं है

दत्तात्रिया कैफ़ी

क़दमों पे डर के रख दिया सर ताकि उठ जाएँ

नाराज़ दिल-लगी में जो वो इक ज़रा हुए

हबीब मूसवी