शेर 1

हर इक मक़ाम पे अच्छी नहीं है बा-ख़बरी

कहीं कहीं तो ज़रूरी है बे-ख़बर होना

  • शेयर कीजिए
 

"रावलपिंडी" के और शायर

  • अख़्तर होशियारपुरी अख़्तर होशियारपुरी
  • साबिर ज़फ़र साबिर ज़फ़र
  • जलील ’आली’ जलील ’आली’
  • बाक़ी सिद्दीक़ी बाक़ी सिद्दीक़ी
  • शुमामा उफ़ुक़ शुमामा उफ़ुक़
  • जमील मलिक जमील मलिक
  • इलियास बाबर आवान इलियास बाबर आवान
  • हसन अब्बास रज़ा हसन अब्बास रज़ा
  • मंज़ूर आरिफ़ मंज़ूर आरिफ़
  • अफ़ज़ल मिनहास अफ़ज़ल मिनहास