ग़ज़ल 41

शेर 19

दिल आबाद कहाँ रह पाए उस की याद भुला देने से

कमरा वीराँ हो जाता है इक तस्वीर हटा देने से

रास्ता सोचते रहने से किधर बनता है

सर में सौदा हो तो दीवार में दर बनता है

दिल पे कुछ और गुज़रती है मगर क्या कीजे

लफ़्ज़ कुछ और ही इज़हार किए जाते हैं

अपने दिए को चाँद बताने के वास्ते

बस्ती का हर चराग़ बुझाना पड़ा हमें

  • शेयर कीजिए

दुनिया तो है दुनिया कि वो दुश्मन है सदा की

सौ बार तिरे इश्क़ में हम ख़ुद से लड़े हैं

पुस्तकें 4

अर्ज़-ए-हुनर से आगे

 

2007

ख़्वाब दरीचा

 

2004

Shauq Sitara

 

1998

 

संबंधित शायर

  • मुज़फ़्फ़र वारसी मुज़फ़्फ़र वारसी समकालीन

"रावलपिंडी" के और शायर

  • अख़्तर होशियारपुरी अख़्तर होशियारपुरी
  • साबिर ज़फ़र साबिर ज़फ़र
  • बाक़ी सिद्दीक़ी बाक़ी सिद्दीक़ी
  • शुमामा उफ़ुक़ शुमामा उफ़ुक़
  • परवीन फ़ना सय्यद परवीन फ़ना सय्यद
  • हसन अब्बास रज़ा हसन अब्बास रज़ा
  • अफ़ज़ल मिनहास अफ़ज़ल मिनहास
  • नवेद फ़िदा सत्ती नवेद फ़िदा सत्ती
  • मुसतफ़ा राही मुसतफ़ा राही
  • निसार नासिक निसार नासिक