Alam Khursheed's Photo'

आलम ख़ुर्शीद

1959 | पटना, भारत

महत्वपूर्ण उत्तर-आधुनिक शायर।

महत्वपूर्ण उत्तर-आधुनिक शायर।

आलम ख़ुर्शीद

ग़ज़ल 48

शेर 24

इश्क़ में तहज़ीब के हैं और ही कुछ फ़लसफ़े

तुझ से हो कर हम ख़फ़ा ख़ुद से ख़फ़ा रहने लगे

  • शेयर कीजिए

रात गए अक्सर दिल के वीरानों में

इक साए का आना जाना होता है

बहुत सुकून से रहते थे हम अँधेरे में

फ़साद पैदा हुआ रौशनी के आने से

मैं ने बचपन में अधूरा ख़्वाब देखा था कोई

आज तक मसरूफ़ हूँ उस ख़्वाब की तकमील में

हाथ पकड़ ले अब भी तेरा हो सकता हूँ मैं

भीड़ बहुत है इस मेले में खो सकता हूँ मैं

पुस्तकें 8

कार-ए-ज़ियाँ

 

2008

Khayalabad

 

2003

Naye Mausam Ki Talash

 

1988

Parvez Shahidi

Intikhab-e-Kalam

2006

Zahr-e-Gul

 

1998

 

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
याद करते हो मुझे सूरज निकल जाने के बा'द

आलम ख़ुर्शीद

हमेशा दिल में रहता है कभी गोया नहीं जाता

आलम ख़ुर्शीद

संबंधित शायर

  • अहमद महफ़ूज़ अहमद महफ़ूज़ समकालीन
  • शारिक़ कैफ़ी शारिक़ कैफ़ी समकालीन

"पटना" के और शायर

  • मुबारक अज़ीमाबादी मुबारक अज़ीमाबादी
  • जमीला ख़ुदा बख़्श जमीला ख़ुदा बख़्श
  • शाद अज़ीमाबादी शाद अज़ीमाबादी
  • कलीम आजिज़ कलीम आजिज़
  • सुल्तान अख़्तर सुल्तान अख़्तर
  • खुर्शीद अकबर खुर्शीद अकबर
  • हसन नईम हसन नईम
  • इम्दाद इमाम असर इम्दाद इमाम असर
  • हसरत अज़ीमाबादी हसरत अज़ीमाबादी
  • अरमान नज्मी अरमान नज्मी