Ali Ahmad Jalili's Photo'

अली अहमद जलीली

1921 - 2005

शायर और आलोचक, जलील मानकपुरी के सुपुत्र

शायर और आलोचक, जलील मानकपुरी के सुपुत्र

2.2K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

ग़म से मंसूब करूँ दर्द का रिश्ता दे दूँ

ज़िंदगी तुझे जीने का सलीक़ा दे दूँ

लाई है किस मक़ाम पे ये ज़िंदगी मुझे

महसूस हो रही है ख़ुद अपनी कमी मुझे

हम ने देखा है ज़माने का बदलना लेकिन

उन के बदले हुए तेवर नहीं देखे जाते

रोके से कहीं हादसा-ए-वक़्त रुका है

शोलों से बचा शहर तो शबनम से जला है

क्या इसी वास्ते सींचा था लहू से अपने

जब सँवर जाए चमन आग लगा दी जाए

दूर तक दिल में दिखाई नहीं देता कोई

ऐसे वीराने में अब किस को सदा दी जाए

नशेमन ही के लुट जाने का ग़म होता तो क्या ग़म था

यहाँ तो बेचने वाले ने गुलशन बेच डाला है

काटी है ग़म की रात बड़े एहतिराम से

अक्सर बुझा दिया है चराग़ों को शाम से

उस शजर के साए में बैठा हूँ मैं

जिस की शाख़ों पर कोई पत्ता नहीं

किनारों से मुझे ना-ख़ुदाओ दूर ही रक्खो

वहाँ ले कर चलो तूफ़ाँ जहाँ से उठने वाला है

फिरता हूँ अपना नक़्श-ए-क़दम ढूँडता हुआ

ले कर चराग़ हाथ में वो भी बुझा हुआ

आँधियों का काम चलना है ग़रज़ इस से नहीं

पेड़ पर पत्ता रहेगा या जुदा हो जाएगा

एक तहरीर जो उस के हाथों की थी

बात वो मुझ से करती रही रात भर

ये ख़ून रंग-ए-चमन में बदल भी सकता है

ज़रा ठहर कि बदल जाएँगे ये मंज़र भी

बन रहे हैं सतह-ए-दिल पर दाएरे

तुम ने तो पत्थर कोई फेंका नहीं