Altaf Mashhadi's Photo'

अल्ताफ़ मशहदी

1914 - 1981 | सरगोधा, पाकिस्तान

इंक़लाब और हुस्न-ओ-इश्क़ के शायर,नाटककार,गीतकार, मुशाएरा के बड़े शायर ,अपनी नज़्म “झूम कर उठो वतन आज़ाद करने के लिए” की वजह से मशहूर

इंक़लाब और हुस्न-ओ-इश्क़ के शायर,नाटककार,गीतकार, मुशाएरा के बड़े शायर ,अपनी नज़्म “झूम कर उठो वतन आज़ाद करने के लिए” की वजह से मशहूर

अल्ताफ़ मशहदी

ग़ज़ल 17

नज़्म 4

 

अशआर 3

फिर दयार-ए-हिन्द को आबाद करने के लिए

झूम कर उट्ठो वतन आज़ाद करने के लिए

  • शेयर कीजिए

टपके जो अश्क वलवले शादाब हो गए

कितने अजीब इश्क़ के आदाब हो गए

  • शेयर कीजिए

पी के जीते हैं जी के पीते हैं

हम को रग़बत है ऐसे जीने से

 

गीत 1

 

पुस्तकें 6

 

"सरगोधा" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए