Anwar Shuoor's Photo'

अनवर शऊर

1943 | कराची, पाकिस्तान

अग्रणी पाकिस्तानी शायरों में से एक, एक अख़बार में रोज़ाना सामयिक विषयों पर 'क़िता' लिखते हैं।

अग्रणी पाकिस्तानी शायरों में से एक, एक अख़बार में रोज़ाना सामयिक विषयों पर 'क़िता' लिखते हैं।

7.96K
Favorite

SORT BY

अच्छा ख़ासा बैठे बैठे गुम हो जाता हूँ

अब मैं अक्सर मैं नहीं रहता तुम हो जाता हूँ

फ़रिश्तों से भी अच्छा मैं बुरा होने से पहले था

वो मुझ से इंतिहाई ख़ुश ख़फ़ा होने से पहले था

सिर्फ़ उस के होंट काग़ज़ पर बना देता हूँ मैं

ख़ुद बना लेती है होंटों पर हँसी अपनी जगह

इस तअल्लुक़ में नहीं मुमकिन तलाक़

ये मोहब्बत है कोई शादी नहीं

जनाब के रुख़-ए-रौशन की दीद हो जाती

तो हम सियाह-नसीबों की ईद हो जाती

इत्तिफ़ाक़ अपनी जगह ख़ुश-क़िस्मती अपनी जगह

ख़ुद बनाता है जहाँ में आदमी अपनी जगह

हैं पत्थरों की ज़द पे तुम्हारी गली में हम

क्या आए थे यहाँ इसी बरसात के लिए

ज़िंदगी की ज़रूरतों का यहाँ

हसरतों में शुमार होता है

मुस्कुराए बग़ैर भी वो होंट

नज़र आते हैं मुस्कुराए हुए

लगी रहती है अश्कों की झड़ी गर्मी हो सर्दी हो

नहीं रुकती कभी बरसात जब से तुम नहीं आए

काफ़ी नहीं ख़ुतूत किसी बात के लिए

तशरीफ़ लाइएगा मुलाक़ात के लिए

इश्क़ तो हर शख़्स करता है 'शुऊर'

तुम ने अपना हाल ये क्या कर लिया

'शुऊर' सिर्फ़ इरादे से कुछ नहीं होता

अमल है शर्त इरादे सभी के होते हैं

बुरा बुरे के अलावा भला भी होता है

हर आदमी में कोई दूसरा भी होता है

मेरे घर के तमाम दरवाज़े

तुम से करते हैं प्यार जाओ

लोग सदमों से मर नहीं जाते

सामने की मिसाल है मेरी

था व'अदा शाम का मगर आए वो रात को

मैं भी किवाड़ खोलने फ़ौरन नहीं गया

मोहब्बत रही चार दिन ज़िंदगी में

रहा चार दिन का असर ज़िंदगी भर

मुस्कुरा कर देख लेते हो मुझे

इस तरह क्या हक़ अदा हो जाएगा

किस क़दर बद-नामियाँ हैं मेरे साथ

क्या बताऊँ किस क़दर तन्हा हूँ मैं

आदमी के लिए रोना है बड़ी बात 'शुऊर'

हँस तो सकते हैं सब इंसान हँसी में क्या है

कह तो सकता हूँ मगर मजबूर कर सकता नहीं

इख़्तियार अपनी जगह है बेबसी अपनी जगह

हो गए दिन जिन्हें भुलाए हुए

आज कल हैं वो याद आए हुए

हमेशा हाथों में होते हैं फूल उन के लिए

किसी को भेज के मंगवाने थोड़ी होते हैं

ज़माने के झमेलों से मुझे क्या

मिरी जाँ! मैं तुम्हारा आदमी हूँ

सभी ज़िंदगी के मज़े लूटते हैं

आया हमें ये हुनर ज़िंदगी भर

अच्छों को तो सब ही चाहते हैं

है कोई कि मैं बहुत बुरा हूँ

किया बादलों में सफ़र ज़िंदगी भर

ज़मीं पर बनाया घर ज़िंदगी भर

कभी रोता था उस को याद कर के

अब अक्सर बे-सबब रोने लगा हूँ

वो मुझ से रूठ जाती तो और क्या करती

मिरी ख़ताएँ मिरी लग़्ज़िशें ही ऐसी थीं

किसी ग़रीब को ज़ख़्मी करें कि क़त्ल करें

निगाह-ए-नाज़ पे जुर्माने थोड़ी होते हैं

बहुत इरादा किया कोई काम करने का

मगर अमल हुआ उलझनें ही ऐसी थीं

'शुऊर' तुम ने ख़ुदा जाने क्या किया होगा

ज़रा सी बात के अफ़्साने थोड़ी होते हैं

सामने कर वो क्या रहने लगा

घर का दरवाज़ा खुला रहने लगा

चले आया करो मेरी तरफ़ भी!

मोहब्बत करने वाला आदमी हूँ

दोस्त कहता हूँ तुम्हें शाएर नहीं कहता 'शुऊर'

दोस्ती अपनी जगह है शाएरी अपनी जगह

गो कठिन है तय करना उम्र का सफ़र तन्हा

लौट कर देखूँगा चल पड़ा अगर तन्हा

मरने वाला ख़ुद रूठा था

या नाराज़ हयात हुई थी

हम बुलाते वो तशरीफ़ लाते रहे

ख़्वाब में ये करामात होती रही

सच है उम्र भर किस का कौन साथ देता है

ग़म भी हो गया रुख़्सत दिल को छोड़ कर तन्हा

गो मुझे एहसास-ए-तन्हाई रहा शिद्दत के साथ

काट दी आधी सदी एक अजनबी औरत के साथ

निज़ाम-ए-ज़र में किसी और काम का क्या हो

बस आदमी है कमाने का और खाने का

कड़ा है दिन बड़ी है रात जब से तुम नहीं आए

दिगर-गूँ हैं मिरे हालात जब से तुम नहीं आए

बहरूप नहीं भरा है मैं ने

जैसा भी हूँ सामने खड़ा हूँ

मिरी हयात है बस रात के अँधेरे तक

मुझे हवा से बचाए रखो सवेरे तक

तिरे होते जो जचती ही नहीं थी

वो सूरत आज ख़ासी लग रही है

आदमी बन के मिरा आदमियों में रहना

एक अलग वज़्अ है दरवेशी सुल्तानी से

तेरी आस पे जीता था मैं वो भी ख़त्म हुई

अब दुनिया में कौन है मेरा कोई नहीं मेरा

ठहर सकती है कहाँ उस रुख़-ए-ताबाँ पे नज़र

देख सकता है उसे आदमी बंद आँखों से

कोई ज़ंजीर नहीं तार-ए-नज़र से मज़बूत

हम ने इस चाँद पे डाली है कमंद आँखों से