Arman Najmi's Photo'

अरमान नज्मी

1940 - 2020 | पटना, भारत

अरमान नज्मी

ग़ज़ल 23

नज़्म 1

 

अशआर 4

घुटन से बच के कहीं साँस ले नहीं सकते

जहाँ भी जाएँ ये काला धुआँ तो सर पर है

  • शेयर कीजिए

'अरमाँ' बस एक लज़्ज़त-ए-इज़हार के सिवा

मिलता है क्या ख़याल को लफ़्ज़ों में ढाल कर

हुआ है क़र्या-ए-जाँ में ये सानेहा कैसा

मिरे वजूद के अंदर है ज़लज़ला कैसा

  • शेयर कीजिए

बचा क्या रह गया कालक भरे झुलसे मकानों में

उजाड़ी बस्तियों की बे-निशानी का तमाशा कर

पुस्तकें 5

 

"पटना" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए