Asghar Mehdi Hosh's Photo'

असग़र मेहदी होश

जौनपुर, भारत

ना’त, मन्क़बत, सलाम, मर्सिये और क़सीदे जैसी विधाओं में शायरी की

ना’त, मन्क़बत, सलाम, मर्सिये और क़सीदे जैसी विधाओं में शायरी की

ग़ज़ल 18

शेर 18

ख़ुदा बदल सका आदमी को आज भी 'होश'

और अब तक आदमी ने सैकड़ों ख़ुदा बदले

  • शेयर कीजिए

दीवार उन के घर की मिरी धूप ले गई

ये बात भूलने में ज़माना लगा मुझे

  • शेयर कीजिए

टूट कर रूह में शीशों की तरह चुभते हैं

फिर भी हर आदमी ख़्वाबों का तमन्नाई है

  • शेयर कीजिए

डूबने वाले को साहिल से सदाएँ मत दो

वो तो डूबेगा मगर डूबना मुश्किल होगा

  • शेयर कीजिए

ज़िक्र-ए-अस्लाफ़ से बेहतर है कि ख़ामोश रहें

कल नई नस्ल में हम लोग भी बूढ़े होंगे

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Ajr-e-Risalat

 

2018

 

"जौनपुर" के और शायर

  • हफ़ीज़ जौनपुरी हफ़ीज़ जौनपुरी
  • वामिक़ जौनपुरी वामिक़ जौनपुरी
  • निर्मल नदीम निर्मल नदीम
  • रज़ा जौनपुरी रज़ा जौनपुरी
  • शौकत परदेसी शौकत परदेसी
  • शफ़ीक़ जौनपुरी शफ़ीक़ जौनपुरी
  • फ़ैज़ राहील ख़ान फ़ैज़ राहील ख़ान
  • इबरत मछलीशहरी इबरत मछलीशहरी
  • शिफ़ा कजगावन्वी शिफ़ा कजगावन्वी
  • अख़लाक़ बन्दवी अख़लाक़ बन्दवी