noImage

इबरत मछलीशहरी

जौनपुर, भारत

ग़ज़ल 4

 

शेर 7

जब जाती है दुनिया घूम फिर कर अपने मरकज़ पर

तो वापस लौट कर गुज़रे ज़माने क्यूँ नहीं आते

  • शेयर कीजिए

क्यूँ पशेमाँ हो अगर वअ'दा वफ़ा हो सका

कहीं वादे भी निभाने के लिए होते हैं

  • शेयर कीजिए

ज़िंदगी कम पढ़े परदेसी का ख़त है 'इबरत'

ये किसी तरह पढ़ा जाए समझा जाए

  • शेयर कीजिए

"जौनपुर" के और शायर

  • हफ़ीज़ जौनपुरी हफ़ीज़ जौनपुरी
  • वामिक़ जौनपुरी वामिक़ जौनपुरी
  • शफ़ीक़ जौनपुरी शफ़ीक़ जौनपुरी
  • शायर जमाली शायर जमाली
  • निर्मल नदीम निर्मल नदीम
  • रज़ा जौनपुरी रज़ा जौनपुरी
  • शौकत परदेसी शौकत परदेसी
  • अख़लाक़ बन्दवी अख़लाक़ बन्दवी
  • फ़ैज़ राहील ख़ान फ़ैज़ राहील ख़ान
  • असग़र मेहदी होश असग़र मेहदी होश

Added to your favorites

Removed from your favorites