Ateeq Allahabadi's Photo'

अतीक़ इलाहाबादी

इलाहाबाद, भारत

ग़ज़ल 5

 

शेर 6

होंटों पर इक बार सजा कर अपने होंट

उस के बाद बातें करना सो जाना

देव परी के क़िस्से सुन कर

भूके बच्चे सो लेते हैं

नवाज़ता था हमेशा वो ग़म की दौलत से

और इस ख़ज़ाने से मैं माला माल हो ही गया

घर हमारा फूँक कर कल इक पड़ोसी 'अतीक़'

दो घड़ी तो हँस लिया फिर बाद में रोया बहुत

मैं ने पूछा ये बता मुझ से बिछड़ने का तुझे

कुछ क़लक़ होता है क्या उस ने कहा थोड़ा बहुत

पुस्तकें 2

Mutala-e-Iqbal

 

1971

Mutthi Bhar Ehsas

 

1997

 

"इलाहाबाद" के और शायर

  • फ़िराक़ गोरखपुरी फ़िराक़ गोरखपुरी
  • आनंद नारायण मुल्ला आनंद नारायण मुल्ला
  • शबनम नक़वी शबनम नक़वी
  • सुहैल अहमद ज़ैदी सुहैल अहमद ज़ैदी
  • ख़्वाजा जावेद अख़्तर ख़्वाजा जावेद अख़्तर
  • अफ़ज़ल इलाहाबादी अफ़ज़ल इलाहाबादी
  • ज़फ़र अंसारी ज़फ़र ज़फ़र अंसारी ज़फ़र
  • अब्दुल हमीद अब्दुल हमीद
  • अजमल अजमली अजमल अजमली
  • आज़म करेवी आज़म करेवी