Afzal Allahabadi's Photo'

अफ़ज़ल इलाहाबादी

1984 | इलाहाबाद, भारत

अफ़ज़ल इलाहाबादी

ग़ज़ल 20

शेर 15

मैं चाहता था कि उस को गुलाब पेश करूँ

वो ख़ुद गुलाब था उस को गुलाब क्या देता

में इज़्तिराब के आलम में रक़्स करता रहा

कभी ग़ुबार की सूरत कभी धुआँ बन कर

अभी तो उस का कोई तज़्किरा हुआ भी नहीं

अभी से बज़्म में ख़ुशबू का रक़्स जारी है

  • शेयर कीजिए

अब तो हर एक अदाकार से डर लगता है

मुझ को दुश्मन से नहीं यार से डर लगता है

वो जिस ने देखा नहीं इश्क़ का कभी मकतब

मैं उस के हाथ में दिल की किताब क्या देता

क़ितआ 27

पुस्तकें 1

Charaghon Mein Lahu

 

 

 

चित्र शायरी 2

दिखा न ख़्वाब हसीं ऐ नसीब रहने दे मैं इक ग़रीब हूँ मुझ को ग़रीब रहने दे मरीज़-ए-इश्क़ हूँ मुझ को दवा से क्या मतलब न कर इलाज मिरा ऐ तबीब रहने दे

 

संबंधित शायर

  • सालिम सलीम सालिम सलीम समकालीन

"इलाहाबाद" के और शायर

  • आनंद नारायण मुल्ला आनंद नारायण मुल्ला
  • ख़्वाजा जावेद अख़्तर ख़्वाजा जावेद अख़्तर
  • ज़फ़र अंसारी ज़फ़र ज़फ़र अंसारी ज़फ़र
  • अब्दुल हमीद अब्दुल हमीद
  • साहिल अहमद साहिल अहमद
  • सुहैल अहमद ज़ैदी सुहैल अहमद ज़ैदी
  • एहतराम इस्लाम एहतराम इस्लाम
  • अकबर इलाहाबादी अकबर इलाहाबादी
  • तौक़ीर ज़ैदी तौक़ीर ज़ैदी
  • फ़र्रुख़ जाफ़री फ़र्रुख़ जाफ़री