Afzal Allahabadi's Photo'

अफ़ज़ल इलाहाबादी

1984 | इलाहाबाद, भारत

ग़ज़ल 20

शेर 15

मैं चाहता था कि उस को गुलाब पेश करूँ

वो ख़ुद गुलाब था उस को गुलाब क्या देता

अभी तो उस का कोई तज़्किरा हुआ भी नहीं

अभी से बज़्म में ख़ुशबू का रक़्स जारी है

  • शेयर कीजिए

अब तो हर एक अदाकार से डर लगता है

मुझ को दुश्मन से नहीं यार से डर लगता है

क़ितआ 27

ई-पुस्तक 1

Charaghon Mein Lahu

 

 

 

चित्र शायरी 2

दिखा न ख़्वाब हसीं ऐ नसीब रहने दे मैं इक ग़रीब हूँ मुझ को ग़रीब रहने दे मरीज़-ए-इश्क़ हूँ मुझ को दवा से क्या मतलब न कर इलाज मिरा ऐ तबीब रहने दे

 

संबंधित शायर

  • सालिम सलीम सालिम सलीम समकालीन

"इलाहाबाद" के और शायर

  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश
  • आर पी शोख़ आर पी शोख़
  • हीरा लाल फ़लक देहलवी हीरा लाल फ़लक देहलवी
  • मुश्ताक़ नक़वी मुश्ताक़ नक़वी
  • माहिर अब्दुल हई माहिर अब्दुल हई
  • सौरभ शेखर सौरभ शेखर
  • अजीत सिंह हसरत अजीत सिंह हसरत
  • शहनाज़ नबी शहनाज़ नबी
  • रख़शां हाशमी रख़शां हाशमी
  • असग़र मेहदी होश असग़र मेहदी होश