Afzal Allahabadi's Photo'

अफ़ज़ल इलाहाबादी

1984 | इलाहाबाद, भारत

ग़ज़ल 20

शेर 15

मैं चाहता था कि उस को गुलाब पेश करूँ

वो ख़ुद गुलाब था उस को गुलाब क्या देता

अभी तो उस का कोई तज़्किरा हुआ भी नहीं

अभी से बज़्म में ख़ुशबू का रक़्स जारी है

  • शेयर कीजिए

अब तो हर एक अदाकार से डर लगता है

मुझ को दुश्मन से नहीं यार से डर लगता है

क़ितआ 27

ई-पुस्तक 1

Charaghon Mein Lahu

 

 

 

चित्र शायरी 2

दिखा न ख़्वाब हसीं ऐ नसीब रहने दे मैं इक ग़रीब हूँ मुझ को ग़रीब रहने दे मरीज़-ए-इश्क़ हूँ मुझ को दवा से क्या मतलब न कर इलाज मिरा ऐ तबीब रहने दे

 

संबंधित शायर

  • सालिम सलीम सालिम सलीम समकालीन

"इलाहाबाद" के और शायर

  • नज़ीर इलाहाबादी नज़ीर इलाहाबादी
  • ज़फ़र अंसारी ज़फ़र ज़फ़र अंसारी ज़फ़र
  • आज़म करेवी आज़म करेवी
  • वहीद इलाहाबादी वहीद इलाहाबादी
  • ख़्वाजा जावेद अख़्तर ख़्वाजा जावेद अख़्तर
  • हेंसन रेहानी हेंसन रेहानी
  • फ़र्रुख़ जाफ़री फ़र्रुख़ जाफ़री
  • साहिल अहमद साहिल अहमद
  • अतीक़ इलाहाबादी अतीक़ इलाहाबादी
  • अब्दुल हमीद अब्दुल हमीद