Basir Sultan Kazmi's Photo'

बासिर सुल्तान काज़मी

1953 | मांचसटर, इंग्लैंड

आधुनिक शायर व नासिर काज़मी के पुत्र

आधुनिक शायर व नासिर काज़मी के पुत्र

3.4K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

गिला भी तुझ से बहुत है मगर मोहब्बत भी

वो बात अपनी जगह है ये बात अपनी जगह

कैसे याद रही तुझ को

मेरी इक छोटी सी भूल

जब भी मिले हम उन से उन्हों ने यही कहा

बस आज आने वाले थे हम आप की तरफ़

दिल लगा लेते हैं अहल-ए-दिल वतन कोई भी हो

फूल को खिलने से मतलब है चमन कोई भी हो

रुक गया हाथ तिरा क्यूँ 'बासिर'

कोई काँटा तो था फूलों में

तू जब सामने होता है

और कहीं होता हूँ मैं

तेरे दिए हुए दुख

तेरे नाम करेंगे

कुछ तो हस्सास हम ज़ियादा हैं

कुछ वो बरहम ज़ियादा होता है

'बासिर' तुम्हें यहाँ का अभी तजरबा नहीं

बीमार हो? पड़े रहो, मर भी गए तो क्या

ख़त्म हुईं सारी बातें

अच्छा अब चलता हूँ मैं

अब दिल को समझाए कौन

बात अगरचे है माक़ूल

अपनी बातों के ज़माने तो हवा-बुर्द हुए

अब किया करते हैं हम सूरत-ए-हालात पे बात

चमकी थी एक बर्क़ सी फूलों के आस-पास

फिर क्या हुआ चमन में मुझे कुछ ख़बर नहीं

बढ़ गई तुझ से मिल के तन्हाई

रूह जूया-ए-हम-सुबू थी बहुत