noImage

बयाँ अहसनुल्लाह ख़ान

1727 - 1798 | दिल्ली, भारत

प्रमुख क्लासिकी शायर, मीर तक़ी ‘मीर’ के समकालीन

प्रमुख क्लासिकी शायर, मीर तक़ी ‘मीर’ के समकालीन

ग़ज़ल 21

शेर 6

अर्श तक जाती थी अब लब तक भी सकती नहीं

रहम जाता है क्यूँ अब मुझ को अपनी आह पर

it cannot even reach my lips, it used to reach the highest skies

I feel compassion at the sorry condition of my sighs

  • शेयर कीजिए

लहू टपका किसी की आरज़ू से

हमारी आरज़ू टपकी लहू से

  • शेयर कीजिए

सीरत के हम ग़ुलाम हैं सूरत हुई तो क्या

सुर्ख़ सफ़ेद मिट्टी की मूरत हुई तो क्या

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

दीवान-ए-बयान

 

 

दीवान-ए-बयान

 

2004

Intikhab-e-Deewan

 

 

 

ऑडियो 10

इश्वा है नाज़ है ग़म्ज़ा है अदा है क्या है

कोई किसी का कहीं आश्ना नहीं देखा

ज़ुल्फ़ तेरी ने परेशाँ किया ऐ यार मुझे

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"दिल्ली" के और शायर

  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर
  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन
  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र