Bekal Utsahi's Photo'

बेकल उत्साही

1930 - 2016 | बलरामपुर, भारत

प्रमुख लोकप्रिय शायर जिन्हें ‘उत्साही’ का उपनाम जवाहर लाल नेहरू ने दिया था/उर्दू शायरी को हिंदी के क़रीब लाने के लिए विख्यात

प्रमुख लोकप्रिय शायर जिन्हें ‘उत्साही’ का उपनाम जवाहर लाल नेहरू ने दिया था/उर्दू शायरी को हिंदी के क़रीब लाने के लिए विख्यात

बेकल उत्साही के शेर

1.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

बीच सड़क इक लाश पड़ी थी और ये लिक्खा था

भूक में ज़हरीली रोटी भी मीठी लगती है

वो थे जवाब के साहिल पे मुंतज़िर लेकिन

समय की नाव में मेरा सवाल डूब गया

उलझ रहे हैं बहुत लोग मेरी शोहरत से

किसी को यूँ तो कोई मुझ से इख़्तिलाफ़ था

वो मेरे क़त्ल का मुल्ज़िम है लोग कहते हैं

वो छुट सके तो मुझे भी गवाह लिख लीजे

लोग तो जा के समुंदर को जला आए हैं

मैं जिसे फूँक कर आया वो मिरा घर निकला

यूँ तो कई किताबें पढ़ीं ज़ेहन में मगर

महफ़ूज़ एक सादा वरक़ देर तक रहा

ख़ुदा करे मिरा मुंसिफ़ सज़ा सुनाने पर

मिरा ही सर मिरे क़ातिल के रू-ब-रू रख दे

हम भटकते रहे अंधेरे में

रौशनी कब हुई नहीं मालूम

उस का जवाब एक ही लम्हे में ख़त्म था

फिर भी मिरे सवाल का हक़ देर तक रहा

हवा-ए-इश्क़ ने भी गुल खिलाए हैं क्या क्या

जो मेरा हाल था वो तेरा हाल होने लगा

अज़्म-ए-मोहकम हो तो होती हैं बलाएँ पसपा

कितने तूफ़ान पलट देता है साहिल तन्हा

चाँदी के घरोंदों की जब बात चली होगी

मिट्टी के खिलौनों से बहलाए गए होंगे

फ़र्श ता अर्श कोई नाम-ओ-निशाँ मिल सका

मैं जिसे ढूँढ रहा था मिरे अंदर निकला

जाने कौन सा नश्शा है उन पे छाया हुआ

क़दम कहीं पे हैं पड़ते कहीं पे चलते हैं

इश्क़-विश्क़ ये चाहत-वाहत मन का भुलावा फिर मन भी अपना क्या

यार ये कैसा रिश्ता जो अपनों को ग़ैर करे मौला ख़ैर करे

बदन की आँच से सँवला गए हैं पैराहन

मैं फिर भी सुब्ह के चेहरे पे शाम लिखता हूँ

दौर-ए-हाज़िर की बज़्म में 'बेकल'

कौन है आदमी नहीं मालूम

ज़मीन प्यासी है बूढ़ा गगन भी भूका है

मैं अपने अहद के क़िस्से तमाम लिखता हूँ

हर एक लहज़ा मिरी धड़कनों में चुभती थी

अजीब चीज़ मिरे दिल के आस-पास रही

किवाड़ बंद करो तीरा-बख़्तो सो जाओ

गली में यूँ ही उजालों की आहटें होंगी

फ़रिश्ते देख रहे हैं ज़मीन चर्ख़ का रब्त

ये फ़ासला भी तो इंसाँ की एक जस्त लगे