Font by Mehr Nastaliq Web

aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Bekhud Dehlvi's Photo'

बेख़ुद देहलवी

1863 - 1955 | दिल्ली, भारत

दाग़ देहलवी के शिष्य

दाग़ देहलवी के शिष्य

बेख़ुद देहलवी के शेर

19.4K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

अदाएँ देखने बैठे हो क्या आईने में अपनी

दिया है जिस ने तुम जैसे को दिल उस का जिगर देखो

जादू है या तिलिस्म तुम्हारी ज़बान में

तुम झूट कह रहे थे मुझे ए'तिबार था

बात वो कहिए कि जिस बात के सौ पहलू हों

कोई पहलू तो रहे बात बदलने के लिए

व्याख्या

शे’र में जिस बिंदु का वर्णन किया गया है उसी ने इसे दिलचस्प बनाया है। इसमें शब्द बात की यद्यपि तीन बार और पहलू की दो बार पुनरावृत्ति हुई है मगर शब्दों की तुकबंदी और अभिव्यक्ति के प्रवाह की विशेषता ने शे’र में आनंद पैदा किया है। पहलू के अनुरूप शब्द बदलने से शे’र की स्थिति का आभास होता है।

दरअसल शे’र में जिस बिंदु का वर्णन किया गया है, हालांकि इसकी कोई विशेषता नहीं बल्कि सामान्य है मगर जिस अंदाज़ से शायर ने इस बिंदु को व्यक्त किया है वो सरल होने के बावजूद इस बिंदु को दुर्लभ बना देता है।

शे’र का अर्थ यह है कि बात को कुछ ऐसे प्रतीकात्मक ढंग से कहना चाहिए कि इससे सौ तरह के विभिन्न अर्थ निकलते हों। क्योंकि अर्थ की दृष्टि से एकहरी बात कहना बुद्धिमान लोगों की शैली नहीं बल्कि वे एक बात में सौ बिंदुओं का सार व्यक्त करते हैं। इस तरह से सुनने वालों को बहस करने या स्पष्टीकरण मांगने के लिए कोई कोई पहलू हाथ आजाता है। और जब बात के पहलू प्रचुर हों तो बात बदलने में आसानी होजाती है। अर्थात बिंदु से बिंदु बरामद होता है।

शफ़क़ सुपुरी

दिल मोहब्बत से भर गया 'बेख़ुद'

अब किसी पर फ़िदा नहीं होता

राह में बैठा हूँ मैं तुम संग-ए-रह समझो मुझे

आदमी बन जाऊँगा कुछ ठोकरें खाने के बाद

सुन के सारी दास्तान-ए-रंज-ओ-ग़म

कह दिया उस ने कि फिर हम क्या करें

दिल तो लेते हो मगर ये भी रहे याद तुम्हें

जो हमारा हुआ कब वो तुम्हारा होगा

आइना देख कर वो ये समझे

मिल गया हुस्न-ए-बे-मिसाल हमें

मुझ को दिल पसंद वो बेवफ़ा पसंद

दोनों हैं ख़ुद-ग़रज़ मुझे दोनों हैं ना-पसंद

हमें पीने से मतलब है जगह की क़ैद क्या 'बेख़ुद'

उसी का नाम जन्नत रख दिया बोतल जहाँ रख दी

वो कुछ मुस्कुराना वो कुछ झेंप जाना

जवानी अदाएँ सिखाती हैं क्या क्या

देखना कभी आईना भूल कर देखो

तुम्हारे हुस्न का पैदा जवाब कर देगा

हूरों से होगी ये मुदारात किसी की

याद आएगी जन्नत में मुलाक़ात किसी की

बात करने की शब-ए-वस्ल इजाज़त दे दो

मुझ को दम भर के लिए ग़ैर की क़िस्मत दे दो

क़यामत है तिरी उठती जवानी

ग़ज़ब ढाने लगीं नीची निगाहें

मुँह में वाइज़ के भी भर आता है पानी अक्सर

जब कभी तज़्किरा-ए-जाम-ए-शराब आता है

सख़्त-जाँ हूँ मुझे इक वार से क्या होता है

ऐसी चोटें कोई दो-चार तो आने दीजे

दी क़सम वस्ल में उस बुत को ख़ुदा की तो कहा

तुझ को आता है ख़ुदा याद हमारे होते

सौदा-ए-इश्क़ और है वहशत कुछ और शय

मजनूँ का कोई दोस्त फ़साना-निगार था

बोले वो मुस्कुरा के बहुत इल्तिजा के ब'अद

जी तो ये चाहता है तिरी मान जाइए

झूटा जो कहा मैं ने तो शर्मा के वो बोले

अल्लाह बिगाड़े बनी बात किसी की

तुम को आशुफ़्ता-मिज़ाजों की ख़बर से क्या काम

तुम सँवारा करो बैठे हुए गेसू अपने

चश्म-ए-बद-दूर वो भोले भी हैं नादाँ भी हैं

ज़ुल्म भी मुझ पे कभी सोच-समझ कर हुआ

अब आप कोई काम सिखा दीजिए हम को

मालूम हुआ इश्क़ के क़ाबिल तो नहीं हम

जवाब सोच के वो दिल में मुस्कुराते हैं

अभी ज़बान पे मेरी सवाल भी तो था

दुश्मन के घर से चल के दिखा दो जुदा जुदा

ये बाँकपन की चाल ये नाज़-ओ-अदा की है

मेरा हर शेर है इक राज़-ए-हक़ीक़त 'बेख़ुद'

मैं हूँ उर्दू का 'नज़ीरी' मुझे तू क्या समझा

नमक भर कर मिरे ज़ख़्मों में तुम क्या मुस्कुराते हो

मिरे ज़ख़्मों को देखो मुस्कुराना इस को कहते हैं

चलने की नहीं आज कोई घात किसी की

सुनने के नहीं वस्ल में हम बात किसी की

उन्हें तो सितम का मज़ा पड़ गया है

कहाँ का तजाहुल कहाँ का तग़ाफ़ुल

सवाल-ए-वस्ल पर कुछ सोच कर उस ने कहा मुझ से

अभी वादा तो कर सकते नहीं हैं हम मगर देखो

भूले से कहा मान भी लेते हैं किसी का

हर बात में तकरार की आदत नहीं अच्छी

पढ़े जाओ 'बेख़ुद' ग़ज़ल पर ग़ज़ल

वो बुत बन गए हैं सुने जाएँगे

हमें इस्लाम से इतना त'अल्लुक़ है अभी बाक़ी

बुतों से जब बिगड़ती है ख़ुदा को याद करते हैं

महफ़िल वही मकान वही आदमी वही

या हम नए हैं या तिरी आदत बदल गई

दिल हुआ जान हुई उन की भला क्या क़ीमत

ऐसी चीज़ों के कहीं दाम दिए जाते हैं

रक़ीबों के लिए अच्छा ठिकाना हो गया पैदा

ख़ुदा आबाद रखे मैं तो कहता हूँ जहन्नम को

मुँह फेर कर वो कहते हैं बस मान जाइए

इस शर्म इस लिहाज़ के क़ुर्बान जाइए

तकिया हटता नहीं पहलू से ये क्या है 'बेख़ुद'

कोई बोतल तो नहीं तुम ने छुपा रक्खी है

ये कह के मेरे सामने टाला रक़ीब को

मुझ से कभी की जान पहचान जाइए

'बेख़ुद' तो मर मिटे जो कहा उस ने नाज़ से

इक शेर गया है हमें आप का पसंद

ज़माना हम ने ज़ालिम छान मारा

नहीं मिलतीं तिरे मिलने की राहें

ग़म में डूबे ही रहे दम हमारा निकला

बहर-ए-हस्ती का बहुत दूर किनारा निकला

क्या कह दिया ये आप ने चुपके से कान में

दिल का सँभालना मुझे दुश्वार हो गया

तीर-ए-क़ातिल को कलेजे से लगा रक्खा है

हम तो दुश्मन को भी आराम दिए जाते हैं

हो लिए जिस के हो लिए 'बेख़ुद'

यार अपना तो ये हिसाब रहा

नज़र कहीं है मुख़ातब किसी से हैं दिल में

जवाब किस को मिला है सवाल किस का था

मोहब्बत और मजनूँ हम तो सौदा इस को कहते हैं

फ़िदा लैला पे था आँखों का अंधा इस को कहते हैं

मौत रही है वादे पे या रहे हो तुम

कम हो रहा है दर्द दिल-ए-बे-क़रार का

दिल में फिर वस्ल के अरमान चले आते हैं

मेरे रूठे हुए मेहमान चले आते हैं

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए