noImage

फ़िगार उन्नावी

उन्नाव, भारत

ग़ज़ल 16

शेर 33

ग़म-ओ-अलम से जो ताबीर की ख़ुशी मैं ने

बहुत क़रीब से देखी है ज़िंदगी मैं ने

  • शेयर कीजिए

ब-क़द्र-ए-ज़ौक़ मेरे अश्क-ए-ग़म की तर्जुमानी है

कोई कहता है मोती है कोई कहता है पानी है

  • शेयर कीजिए

उन पे क़ुर्बान हर ख़ुशी कर दी

ज़िंदगी नज़्र-ए-ज़िंदगी कर दी

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 1

Harf-o-Nawa

 

2001

 

"उन्नाव" के और शायर

  • गुलज़ार गुलज़ार
  • ज़िया ज़मीर ज़िया ज़मीर
  • स्वप्निल तिवारी स्वप्निल तिवारी
  • शकील जमाली शकील जमाली
  • पॉपुलर मेरठी पॉपुलर मेरठी
  • मतीन नियाज़ी मतीन नियाज़ी
  • मनीश शुक्ला मनीश शुक्ला
  • आलोक मिश्रा आलोक मिश्रा
  • सालिम सलीम सालिम सलीम
  • पवन कुमार पवन कुमार