Insha Allah Khan 'Insha''s Photo'

इंशा अल्लाह ख़ान इंशा

1752 - 1817 | दिल्ली, भारत

लखनऊ के सबसे गर्म मिज़ाज शायर। मीर तक़ी मीर के समकालीन। मुसहफ़ी के साथ प्रतिद्वंदिता के लिए मशहूर ' रेख़्ती ' विधा की शायरी भी की और गद्द में रानी केतकी की कहानी लिखी।

लखनऊ के सबसे गर्म मिज़ाज शायर। मीर तक़ी मीर के समकालीन। मुसहफ़ी के साथ प्रतिद्वंदिता के लिए मशहूर ' रेख़्ती ' विधा की शायरी भी की और गद्द में रानी केतकी की कहानी लिखी।

2.69K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

अजीब लुत्फ़ कुछ आपस की छेड़-छाड़ में है

कहाँ मिलाप में वो बात जो बिगाड़ में है

कमर बाँधे हुए चलने को याँ सब यार बैठे हैं

बहुत आगे गए बाक़ी जो हैं तय्यार बैठे हैं

जज़्बा-ए-इश्क़ सलामत है तो इंशा-अल्लाह

कच्चे धागे से चले आएँगे सरकार बंधे

क्या हँसी आती है मुझ को हज़रत-ए-इंसान पर

फ़ेल-ए-बद ख़ुद ही करें लानत करें शैतान पर

मैं ने जो कचकचा कर कल उन की रान काटी

तो उन ने किस मज़े से मेरी ज़बान काटी

छेड़ निकहत-ए-बाद-ए-बहारी राह लग अपनी

तुझे अटखेलियाँ सूझी हैं हम बे-ज़ार बैठे हैं

जी की जी ही में रही बात होने पाई

हैफ़ कि उस से मुलाक़ात होने पाई

कुछ इशारा जो किया हम ने मुलाक़ात के वक़्त

टाल कर कहने लगे दिन है अभी रात के वक़्त

कर लेता हूँ बंद आँखें मैं दीवार से लग कर

बैठे है किसी से जो कोई प्यार से लग कर

ज़मीं से उट्ठी है या चर्ख़ पर से उतरी है

ये आग इश्क़ की या-रब किधर से उतरी है

ये अजीब माजरा है कि ब-रोज़-ए-ईद-ए-क़ुर्बां

वही ज़ब्ह भी करे है वही ले सवाब उल्टा

नज़ाकत उस गुल-ए-राना की देखियो 'इंशा'

नसीम-ए-सुब्ह जो छू जाए रंग हो मैला

साँवले तन पे ग़ज़ब धज है बसंती शाल की

जी में है कह बैठिए अब जय कनहय्या लाल की

हज़ार शैख़ ने दाढ़ी बढ़ाई सन की सी

मगर वो बात कहाँ मौलवी मदन की सी

काटे हैं हम ने यूँही अय्याम ज़िंदगी के

सीधे से सीधे-सादे और कज से कज रहे हैं

दहकी है आग दिल में पड़े इश्तियाक़ की

तेरे सिवाए किस से हो इस का इलाज आज

कह तू शैख़ मुझे ज़ोहद सीख मस्ती छोड़

तिरी पसंद जुदा है मिरी पसंद जुदा

है ख़ाल यूँ तुम्हारे चाह-ए-ज़क़न के अंदर

जिस रूप हो कनहय्या आब-ए-जमन के अंदर

लैला मजनूँ की लाखों गरचे तस्वीरें खिंचीं

मिल गई सब ख़ाक में जिस वक़्त ज़ंजीरें खिंचीं

याद क्या आता है वो मेरा लगे जाना और आह

पीछे हट कर उस का ये कहना कोई जाएगा

सनम-ख़ाना जाता हूँ तू मुझ को नाहक़

बहका बहका बहका बहका

हर तरफ़ हैं तिरे दीदार के भूके लाखों

पेट भर कर कोई ऐसा भी तरहदार हो

है नूर-ए-बसर मर्दुमक-ए-दीदा में पिन्हाँ यूँ जैसे कन्हैया

सो अश्क के क़तरों से पड़ा खेले है झुरमुट और आँखों में पनघट

दे एक शब को अपनी मुझे ज़र्द शाल तू

है मुझ को सूँघने के हवस सो निकाल तू

गर्मी ने कुछ आग और भी सीने में लगाई

हर तौर ग़रज़ आप से मिलना ही कम अच्छा

जिस ने यारो मुझ से दावा शेर के फ़न का किया

मैं ने ले कर उस के काग़ज़ और क़लम आगे धरा

सुब्ह-दम मुझ से लिपट कर वो नशे में बोले

तुम बने बाद-ए-सबा हम गुल-ए-नसरीन हुए

ग़ुंचा-ए-गुल के सबा गोद भरी जाती है

एक परी आती है और एक परी जाती है

जावे वो सनम ब्रिज को तो आप कन्हैया

झट सामने हो मुरली की धुन नज़्र पकड़ कर

उस संग-दिल के हिज्र में चश्मों को अपने आह

मानिंद-ए-आबशार किया हम ने क्या किया

फबती तिरे मुखड़े पे मुझे हूर की सूझी

ला हाथ इधर दे कि बहुत दूर की सूझी

चंद मुद्दत को फिराक़-ए-सनम-ओ-दैर तो है

आओ काबा कभी देख आएँ इक सैर तो है

बैठता है जब तुंदीला शैख़ कर बज़्म में

इक बड़ा मटका सा रहता है शिकम आगे धरा

शैख़-जी ये बयान करो हम भी तो बारी कुछ सुनें

आप के हाथ क्या लगा ख़ल्वत-ओ-एतिकाफ़ में

ख़ूबान-ए-रोज़गार मुक़ल्लिद तेरी हैं सब

जो चीज़ तू करे सो वो पावे रिवाज आज

लगी मुझ को जब उस शोख़-ए-तरहदार की गेंद

उस ने महरम को सँभाल और ही तय्यार की गेंद