Insha Allah Khan 'Insha''s Photo'

इंशा अल्लाह ख़ान इंशा

1752 - 1817 | दिल्ली, भारत

लखनऊ के सबसे गर्म मिज़ाज शायर। मीर तक़ी मीर के समकालीन। मुसहफ़ी के साथ प्रतिद्वंदिता के लिए मशहूर ' रेख़्ती ' विधा की शायरी भी की और गद्द में रानी केतकी की कहानी लिखी।

लखनऊ के सबसे गर्म मिज़ाज शायर। मीर तक़ी मीर के समकालीन। मुसहफ़ी के साथ प्रतिद्वंदिता के लिए मशहूर ' रेख़्ती ' विधा की शायरी भी की और गद्द में रानी केतकी की कहानी लिखी।

ग़ज़ल 78

शेर 36

अजीब लुत्फ़ कुछ आपस की छेड़-छाड़ में है

कहाँ मिलाप में वो बात जो बिगाड़ में है

  • शेयर कीजिए

कमर बाँधे हुए चलने को याँ सब यार बैठे हैं

बहुत आगे गए बाक़ी जो हैं तय्यार बैठे हैं

जज़्बा-ए-इश्क़ सलामत है तो इंशा-अल्लाह

कच्चे धागे से चले आएँगे सरकार बंधे

  • शेयर कीजिए

लतीफ़े 3

 

रेख़्ती 5

 

पुस्तकें 32

Dariya-e-Latafat

 

 

Dariya-e-Latafat

 

1962

Dariya-e-Latafat

 

1848

Dariya-e-Latafat

 

1935

Dariya-e-Latafat

 

1988

Dastan Rani Ketki Aur Kunwar Uday Bhan Ki

 

 

Deewan-e-Rangeen, Insha

 

1924

दीवान-ए-रंगीन, इंशा

 

 

Hindustani Adab Ke Memar: Inshaullah Khan Insha

 

1989

इंशा

 

1982

ऑडियो 9

कमर बाँधे हुए चलने को याँ सब यार बैठे हैं

कमर बाँधे हुए चलने को याँ सब यार बैठे हैं

गाली सही अदा सही चीन-ए-जबीं सही

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • मिर्ज़ा अज़ीम बेग 'अज़ीम' मिर्ज़ा अज़ीम बेग 'अज़ीम' समकालीन
  • आफ़ताब शाह आलम सानी आफ़ताब शाह आलम सानी समकालीन
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर
  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • मोहम्मद रफ़ी सौदा मोहम्मद रफ़ी सौदा