noImage

जुरअत क़लंदर बख़्श

1748 - 1809 | लखनऊ, भारत

अपनी शायरी में महबूब के साथ मामला-बंदी के मज़मून के लिए मशहूर, नौजवानी में नेत्रहीन हो गए

अपनी शायरी में महबूब के साथ मामला-बंदी के मज़मून के लिए मशहूर, नौजवानी में नेत्रहीन हो गए

जुरअत क़लंदर बख़्श के शेर

5.1K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

इलाही क्या इलाक़ा है वो जब लेता है अंगड़ाई

मिरे सीने में सब ज़ख़्मों के टाँके टूट जाते हैं

मिल गए थे एक बार उस के जो मेरे लब से लब

उम्र भर होंटों पे अपने मैं ज़बाँ फेरा किए

कैफ़ियत महफ़िल-ए-ख़ूबाँ की उस बिन पूछो

उस को देखूँ तो फिर दे मुझे दिखलाई क्या

भरी जो हसरत-ओ-यास अपनी गुफ़्तुगू में है

ख़ुदा ही जाने कि बंदा किस आरज़ू में है

लब-ए-ख़याल से उस लब का जो लिया बोसा

तो मुँह ही मुँह में अजब तरह का मज़ा आया

अहवाल क्या बयाँ मैं करूँ हाए तबीब

है दर्द उस जगह कि जहाँ का नहीं इलाज

उस ज़ुल्फ़ पे फबती शब-ए-दीजूर की सूझी

अंधे को अँधेरे में बड़ी दूर की सूझी

दिल-ए-वहशी को ख़्वाहिश है तुम्हारे दर पे आने की

दिवाना है व-लेकिन बात करता है ठिकाने की

हैं लाज़िम-ओ-मलज़ूम बहम हुस्न मोहब्बत

हम होते तालिब जो वो मतलूब होता

कल उस सनम के कूचे से निकला जो शैख़-ए-वक़्त

कहते थे सब इधर से अजब बरहमन गया

लगते ही हाथ के जो खींचे है रूह तन से

क्या जानें क्या वो शय है उस के बदन के अंदर

आँख उठा कर उसे देखूँ हूँ तो नज़रों में मुझे

यूँ जताता है कि क्या तुझ को नहीं डर मेरा

सभी इनआम नित पाते हैं शीरीं-दहन तुझ से

कभू तू एक बोसे से हमारा मुँह भी मीठा कर

जब तलक हम चाहते थे तुझे

तब तक ऐसा तिरा जमाल था

ग़म मुझे ना-तवान रखता है

इश्क़ भी इक निशान रखता है

पूछो कुछ सबब मिरे हाल-ए-तबाह का

उल्फ़त का ये समर है नतीजा है चाह का

इक बोसा माँगता हूँ मैं ख़ैरात-ए-हुस्न की

दो माल की ज़कात कि दौलत ज़ियादा हो

जहाँ कुछ दर्द का मज़कूर होगा

हमारा शेर भी मशहूर होगा

चली जाती है तू उम्र-ए-रफ़्ता

ये हम को किस मुसीबत में फँसा कर

रंजिशें ऐसी हज़ार आपस में होती हैं दिला

वो अगर तुझ से ख़फ़ा है तू ही जा मिल क्या हुआ

रखे है लज़्ज़त-ए-बोसा से मुझ को गर महरूम

तो अपने तू भी होंटों तलक ज़बाँ पहुँचा

पीछे पीछे मिरे चलने से रुको मत साहिब

कोई पूछेगा तो कहियो ये है नौकर मेरा

चुपके चुपके रोते हैं मुँह पर दुपट्टा तान कर

घर जो याद आया किसी का अपने घर में आन कर

बाल हैं बिखरे बैंड हैं टूटे कान में टेढ़ा बाला है

'जुरअत' हम पहचान गए हैं दाल में काला काला है

जल्दी तलब-ए-बोसा पे कीजे तो कहे वाह

ऐसा इसे क्या समझे हो तुम मुँह का निवाला

उस शख़्स ने कल हातों ही हातों में फ़लक पर

सौ बार चढ़ाया मुझे सौ बार उतारा

क्या क्या किया है कूचा-ब-कूचा मुझे ख़राब

ख़ाना ख़राब हो दिल-ए-ख़ाना-ख़राब का

हिज्र में मुज़्तरिब सा हो हो के

चार-सू देखता हूँ रो रो के

जल्द ख़ू अपनी बदल वर्ना कोई कर के तिलिस्म

के दिल अपना तिरे दिल से बदल जाऊँगा

आज घेरा ही था उसे मैं ने

कर के इक़रार मुझ से छूट गया

पयाम अब वो नहीं भेजता ज़बानी भी

कि जिस की होंटों में लेते थे हम ज़बाँ हर रोज़

मैं तो हैराँ हूँ मतब है कि दर-ए-यार है ये

याँ तो बीमार पे बीमार चले आते हैं

आँख लगती नहीं 'जुरअत' मिरी अब सारी रात

आँख लगते ही ये कैसा मुझे आज़ार लगा

अल्लाह-रे भुलापा मुँह धो के ख़ुद वो बोले

सूँघो तो हो गया ये पानी गुलाब क्यूँकर

मिस्ल-ए-मजनूँ जो परेशाँ है बयाबान में आज

क्यूँ दिला कौन समाया है तिरे ध्यान में आज

बिन देखे उस के जावे रंज अज़ाब क्यूँ कर

वो ख़्वाब में तो आवे पर आवे ख़्वाब क्यूँ कर

जो आज चढ़ाते हैं हमें अर्श-ए-बरीं पर

दो दिन को उतारेंगे वही लोग ज़मीं पर

शब ख़्वाब में जो उस के दहन से दहन लगा

खुलते ही आँख काँपने सारा बदन लगा

आया था शब को छुप के वो रश्क-ए-चमन सो आह

फैली ये घर में बू कि मोहल्ला महक गया

है आशिक़ माशूक़ में ये फ़र्क़ कि महबूब

तस्वीर-ए-तफ़र्रुज है वो पुतला है अलम का

पूछी जो उस से मैं दिल-ए-सद-चाक की ख़बर

उलझा के अपनी ज़ुल्फ़ वो शाने से उठ गया

मेरे मरने की ख़बर सुन कर लगा कहने वो शोख़

दिल ही दिल में अपने कुछ कुछ सोच कर अच्छा हुआ

ख़लल इक पड़ गया नाहक़ गुल बुलबुल की सोहबत में

अबस खोला था तू ने बाग़ में गुल बदन अपना

मुझ मस्त को क्यूँ भाए वो साँवली सूरत

जी दौड़े है मय-कश का ग़िज़ा-ए-नमकीं पर

तुझ सा जो कोई तुझ को मिल जाएगा तो बातें

मेरी तरह से तू भी चुपका सुना करेगा

ब'अद मुद्दत वो देख कर बोला

किस ने याँ ख़ाक का ये ढेर रखा

शब-ए-हिज्र थी और मैं रो रहा था

कोई जागता था कोई सो रहा था

लाश को मेरी छुपा कर इक कुएँ में डाल दो

यारो मैं कुश्ता हूँ इक पर्दा-नशीं की चाह का

बोसे गर हम ने लिए हैं तो दिए भी तुम को

छुट गए आप के एहसाँ से बराबर हो कर

नौ-गिरफ़्तार-ए-मोहब्बत हूँ मिरी वज़्अ' से तुम

इतना घबराओ प्यारे मैं सँभल जाऊँगा

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए