noImage

लाला माधव राम जौहर

1810 - 1889

हर मौक़े पर याद आने वाले कई शेर देने वाले विख्यात शायर , मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन।

हर मौक़े पर याद आने वाले कई शेर देने वाले विख्यात शायर , मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन।

लाला माधव राम जौहर की ग़ज़लें

2.4K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI