Mahesh Chandra Naqsh's Photo'

महेश चंद्र नक़्श

1922 - 1980 | दिल्ली, भारत

डी टी सी ट्रैफिक इंस्पेक्टर,ग़ज़लों और क़ितआत के लिए मशहूर

डी टी सी ट्रैफिक इंस्पेक्टर,ग़ज़लों और क़ितआत के लिए मशहूर

महेश चंद्र नक़्श

ग़ज़ल 26

शेर 24

इस डूबते सूरज से तो उम्मीद ही क्या थी

हँस हँस के सितारों ने भी दिल तोड़ दिया है

ख़ुद-शनासी थी जुस्तुजू तेरी

तुझ को ढूँडा तो आप को पाया

हाल कह देते हैं नाज़ुक से इशारे अक्सर

कितनी ख़ामोश निगाहों की ज़बाँ होती है

उन के गेसू सँवरते जाते हैं

हादसे हैं गुज़रते जाते हैं

तस्कीन दे सकेंगे जाम-ओ-सुबू मुझे

बेचैन कर रही है तिरी आरज़ू मुझे

क़ितआ 23

पुस्तकें 8

अंदाज़

 

1962

Darpan

 

1981

Darpan

 

1981

Darpan

 

1981

Deewarein

 

1973

Khiram

 

 

Khiram

 

1955

Khiram

 

1956

 

चित्र शायरी 1

तस्वीर-ए-ज़िंदगी में नया रंग भर गए वो हादसे जो दिल पे हमारे गुज़र गए दुनिया से हट के इक नई दुनिया बना सकें कुछ अहल-ए-आरज़ू इसी हसरत में मर गए निकला जो क़ाफ़िले से नई जुस्तुजू लिए कुछ दूर साथ साथ मिरे राहबर गए नैरंगियाँ चमन की पशेमान हो गईं रुख़ पर किसी के आज जो गेसू बिखर गए फूटी जो उस जबीं से इनायत की इक किरन मग़्मूम आरज़ूओं के चेहरे निखर गए हर शय से बे-नियाज़ रहे जिन में हुस्न ओ इश्क़ ऐ ज़िंदगी बता कि वो लम्हे किधर गए ऐ 'नक़्श' कर रहा था जिन्हें ग़र्क़ नाख़ुदा तूफ़ाँ के ज़ोर से वो सफ़ीने उभर गए

 

ऑडियो 5

ज़िंदगी किस मक़ाम से गुज़री

जिस को निस्बत हो तुम्हारे नाम से

नूर-ओ-निकहत की ये बरसात कहाँ थी पहले

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"दिल्ली" के और शायर

  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • अनीसुर्रहमान अनीसुर्रहमान
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी
  • अनस ख़ान अनस ख़ान