Majid Deobandi's Photo'

माजिद देवबंदी

1964 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 5

 

शेर 8

जिस को चाहें बे-इज़्ज़त कर सकते हैं

आप बड़े हैं आप को ये आसानी है

याद रक्खो इक इक दिन साँप बाहर आएँगे

आस्तीनों में उन्हें कब तक छुपाया जाएगा

  • शेयर कीजिए

इन आँसुओं की हिफ़ाज़त बहुत ज़रूरी है

अँधेरी रात में जुगनू भी काम आते हैं

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

Lahu Lahu Aankhein

 

2000

Shakh-e-Dil

 

2011

Zikr-e-Rasool

 

200

 

"दिल्ली" के और शायर

  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • ख़्वाजा मीर दर्द ख़्वाजा मीर दर्द
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन