Shahram Sarmadi's Photo'

शहराम सर्मदी

1975 | तजाकिस्तान

ग़ज़ल 26

नज़्म 23

शेर 3

मिरे अलावा सभी लोग अब ये मानते हैं

ग़लत नहीं थी मिरी राय उस के बारे में

फ़क़त ज़मान मकाँ में ज़रा सा फ़र्क़ आया

जो एक मसअला-ए-दर्द था अभी तक है

ब-नाम-ए-इश्क़ इक एहसान सा अभी तक है

वो सादा-लौह हमें चाहता अभी तक है

 

पुस्तकें 1

Na Mau'ud

 

2014

 

संबंधित शायर

  • ख़ालिद मुबश्शिर ख़ालिद मुबश्शिर समकालीन
  • मनीश शुक्ला मनीश शुक्ला समकालीन
  • अफ़ज़ल ख़ान अफ़ज़ल ख़ान समकालीन
  • अली अकबर नातिक़ अली अकबर नातिक़ समकालीन
  • ज़ुल्फ़िक़ार आदिल ज़ुल्फ़िक़ार आदिल समकालीन
  • शहाब सर्मदी शहाब सर्मदी गुरु