Makhmoor Saeedi's Photo'

मख़मूर सईदी

1938 - 2010 | दिल्ली, भारत

प्रमुख आधुनिक शायर / पत्रिका तहरीक से संबंधित थे

प्रमुख आधुनिक शायर / पत्रिका तहरीक से संबंधित थे

मख़मूर सईदी के शेर

1.1K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मैं उस के वादे का अब भी यक़ीन करता हूँ

हज़ार बार जिसे आज़मा लिया मैं ने

बुतों को पूजने वालों को क्यूँ इल्ज़ाम देते हो

डरो उस से कि जिस ने उन को इस क़ाबिल बनाया है

घर में रहा था कौन कि रुख़्सत करे हमें

चौखट को अलविदा'अ कहा और चल पड़े

कुछ यूँ लगता है तिरे साथ ही गुज़रा वो भी

हम ने जो वक़्त तिरे साथ गुज़ारा ही नहीं

ग़म नशात की हर रहगुज़र में तन्हा हूँ

मुझे ख़बर है मैं अपने सफ़र में तन्हा हूँ

सुर्ख़ियाँ ख़ून में डूबी हैं सब अख़बारों की

आज के दिन कोई अख़बार देखा जाए

हो जाए जहाँ शाम वहीं उन का बसेरा

आवारा परिंदों के ठिकाने नहीं होते

ये अपने दिल की लगी को बुझाने आते हैं

पराई आग में जलते नहीं हैं परवाने

रख़्त-ए-सफ़र जो पास हमारे था तो क्या

शौक़-ए-सफ़र को साथ लिया और चल पड़े

मुद्दतों बाद हम किसी से मिले

यूँ लगा जैसे ज़िंदगी से मिले

मस्लहत के हज़ार पर्दे हैं

मेरे चेहरे पे कितने चेहरे हैं

ज़बाँ पे शुक्र शिकायत के सौ फ़साने हैं

मगर जो दिल पे गुज़रती है क्या कहा जाए

दिल पे इक ग़म की घटा छाई हुई थी कब से

आज उन से जो मिले टूट के बरसात हुई

उन से उम्मीद-ए-मुलाक़ात के बाद 'मख़मूर'

मुद्दतों तक ख़ुद अपने से मुलाक़ात हुई

रास्ते शहर के सब बंद हुए हैं तुम पर

घर से निकलोगे तो 'मख़मूर' किधर जाओगे

कितनी दीवारें उठी हैं एक घर के दरमियाँ

घर कहीं गुम हो गया दीवार-ओ-दर के दरमियाँ

बुझती आँखों में सुलगते हुए एहसास की लौ

एक शो'ला सा चमकता पस-ए-शबनम देखा

जानिब-ए-कूचा-ओ-बाज़ार देखा जाए

ग़ौर से शहर का किरदार देखा जाए

अब गए हो तो ठहरो ख़राबा-ए-दिल में

ये वो जगह है जहाँ ज़िंदगी सँवरती है

बस यूँही हम-सरी-ए-अहल-ए-जहाँ मुमकिन है

दम-ब-दम अपनी बुलंदी से उतरता जाऊँ