Manzar Ayubi's Photo'

मंज़र अय्यूबी

1932 | कराची, पाकिस्तान

ग़ज़ल 6

शेर 2

किसी भी घर में सही रौशनी तो है हम से

नुमूद-ए-सुब्ह से पहले तो मत बुझाओ हमें

किसी लब पे हर्फ़-ए-सितम तो हो कोई दुख सुपुर्द-ए-क़लम तो हो

ये बजा कि शहर-ए-मलाल में कोई 'फ़ैज़' है कोई 'मीर' है

 

पुस्तकें 2

Mizaj

 

1987

Takallum

 

1981

 

"कराची" के और शायर

  • रेहाना रूही रेहाना रूही
  • तौक़ीर तक़ी तौक़ीर तक़ी
  • नैना आदिल नैना आदिल
  • साक़ी अमरोहवी साक़ी अमरोहवी
  • सीमान नवेद सीमान नवेद
  • महताब ज़फ़र महताब ज़फ़र
  • निकहत बरेलवी निकहत बरेलवी
  • हसन आबिदी हसन आबिदी
  • सज्जाद बाक़र रिज़वी सज्जाद बाक़र रिज़वी
  • अब्दुर रऊफ़ उरूज अब्दुर रऊफ़ उरूज