Jamal Ehsani's Photo'

जमाल एहसानी

1951 - 1998 | कराची, पाकिस्तान

सबसे महत्वपूर्ण उत्तर-आधुनिक पाकिस्तानी शायरों में से एक, अपने विशीष्ट काव्य अनुभव के लिए विख्यात।

सबसे महत्वपूर्ण उत्तर-आधुनिक पाकिस्तानी शायरों में से एक, अपने विशीष्ट काव्य अनुभव के लिए विख्यात।

ग़ज़ल 45

शेर 24

हम ऐसे बे-हुनरों में है जो सलीक़ा-ए-ज़ीस्त

तिरे दयार में पल-भर क़याम से आया

और अब ये चाहता हूँ कोई ग़म बटाए मिरा

मैं अपनी मिट्टी कभी आप ढोने वाला था

तिरे आने से दिल भी नहीं दुखा शायद

वगरना क्या मैं सर-ए-शाम सोने वाला था

ई-पुस्तक 2

Kulliyat-e-Jamal

 

2008

Rat Ke Jage Hue

 

1986

 

वीडियो 5

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Jamal Ehsani reciting at a mushaira

जमाल एहसानी

जमाल एहसानी

कूज़ा-ए-दुनिया है अपने चाक से बिछड़ा हुआ

जमाल एहसानी

किसी भी दश्त किसी भी नगर चला जाता

जमाल एहसानी

वो लोग मेरे बहुत प्यार करने वाले थे

जमाल एहसानी

"कराची" के और शायर

  • परवीन शाकिर परवीन शाकिर
  • सरवत हुसैन सरवत हुसैन
  • सारा शगुफ़्ता सारा शगुफ़्ता
  • अफ़ज़ाल अहमद सय्यद अफ़ज़ाल अहमद सय्यद
  • फ़हमीदा रियाज़ फ़हमीदा रियाज़
  • सलीम कौसर सलीम कौसर
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • ज़ीशान साहिल ज़ीशान साहिल
  • ज़ेहरा निगाह ज़ेहरा निगाह
  • अतहर नफ़ीस अतहर नफ़ीस

Added to your favorites

Removed from your favorites