Mohsin Ehsan's Photo'

मोहसिन एहसान

1933 - 2010 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान में नई ग़ज़ल के प्रतिष्ठित शायर

पाकिस्तान में नई ग़ज़ल के प्रतिष्ठित शायर

मोहसिन एहसान

ग़ज़ल 55

नज़्म 4

 

अशआर 5

अब दुआओं के लिए उठते नहीं हैं हाथ भी

बे-यक़ीनी का तो आलम था मगर ऐसा था

  • शेयर कीजिए

मैं मुनक़्क़श हूँ तिरी रूह की दीवारों पर

तू मिटा सकता नहीं भूलने वाले मुझ को

  • शेयर कीजिए

सुब्ह से शाम हुई रूठा हुआ बैठा हूँ

कोई ऐसा नहीं कर जो मना ले मुझ को

  • शेयर कीजिए

तन्हा खड़ा हूँ मैं भी सर-ए-कर्बला-ए-अस्र

और सोचता हूँ मेरे तरफ़-दार क्या हुए

  • शेयर कीजिए

मैं ख़र्च कार-ए-ज़माना में हो चुका इतना

कि आख़िरत के लिए पास कुछ बचा ही नहीं

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 6

 

वीडियो 6

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

मोहसिन एहसान

मोहसिन एहसान

मोहसिन एहसान

मोहसिन एहसान

मोहसिन एहसान

हम भी ज़िंदा हैं अजब काविश-ए-इज़हार के साथ

मोहसिन एहसान

"कराची" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए