ग़ज़ल 19

शेर 2

अच्छी क़िस्मत अच्छा मौसम अच्छे लोग

फिर भी दिल घबरा जाता है बाज़ औक़ात

उस के अस्बाब से निकला है परेशाँ काग़ज़

बात इतनी थी मगर ख़ूब उछाली हम ने

 

"इस्लामाबाद" के और शायर

  • अहमद फ़राज़ अहमद फ़राज़
  • इफ़्तिख़ार आरिफ़ इफ़्तिख़ार आरिफ़
  • किश्वर नाहीद किश्वर नाहीद
  • ऐतबार साजिद ऐतबार साजिद
  • सरफ़राज़ ज़ाहिद सरफ़राज़ ज़ाहिद
  • ज़िया जालंधरी ज़िया जालंधरी
  • अकबर हमीदी अकबर हमीदी
  • हारिस ख़लीक़ हारिस ख़लीक़
  • नूर बिजनौरी नूर बिजनौरी
  • तौसीफ़ तबस्सुम तौसीफ़ तबस्सुम