noImage

मोहम्मद हसन मोहसिन

दरभंगा, भारत

मोहम्मद हसन मोहसिन

अशआर 1

तल्ख़ शीरीं बे-तकल्लुफ़ जिस को पीना गया

मय-कशो पीना तो पीना उस को जीना गया

  • शेयर कीजिए
 

"दरभंगा" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए