Mubarak Azimabadi's Photo'

मुबारक अज़ीमाबादी

1896 - 1959 | पटना, भारत

बिहार के प्रमुख उत्तर-क्लासिकी शायर

बिहार के प्रमुख उत्तर-क्लासिकी शायर

4.7K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जो निगाह-ए-नाज़ का बिस्मिल नहीं

दिल नहीं वो दिल नहीं वो दिल नहीं

रहने दे अपनी बंदगी ज़ाहिद

बे-मोहब्बत ख़ुदा नहीं मिलता

तेरी बख़्शिश के भरोसे पे ख़ताएँ की हैं

तेरी रहमत के सहारे ने गुनहगार किया

जो दिल-नशीं हो किसी के तो इस का क्या कहना

जगह नसीब से मिलती है दिल के गोशों में

मुझ को मालूम है अंजाम-ए-मोहब्बत क्या है

एक दिन मौत की उम्मीद पे जीना होगा

फूल क्या डालोगे तुर्बत पर मिरी

ख़ाक भी तुम से डाली जाएगी

दिन भी है रात भी है सुब्ह भी है शाम भी है

इतने वक़्तों में कोई वक़्त-ए-मुलाक़ात भी है

कब वो आएँगे इलाही मिरे मेहमाँ हो कर

कौन दिन कौन बरस कौन महीना होगा

अपनी सी करो तुम भी अपनी सी करें हम भी

कुछ तुम ने भी ठानी है कुछ हम ने भी ठानी है

तिरी अदा की क़सम है तिरी अदा के सिवा

पसंद और किसी की हमें अदा हुई

आप का इख़्तियार है सब पर

आप पर इख़्तियार किस का है

क़ुबूल हो कि हो सज्दा सलाम अपना

तुम्हारे बंदे हैं हम बंदगी है काम अपना

मिलो मिलो मिलो इख़्तियार है तुम को

इस आरज़ू के सिवा और आरज़ू क्या है

कब उन आँखों का सामना हुआ

तीर जिन का कभी ख़ता हुआ

हँसी है दिल-लगी है क़हक़हे हैं

तुम्हारी अंजुमन का पूछना क्या

इक तिरी बात कि जिस बात की तरदीद मुहाल

इक मिरा ख़्वाब कि जिस ख़्वाब की ताबीर नहीं

किसी ने बर्छियाँ मारीं किसी ने तीर मारे हैं

ख़ुदा रक्खे इन्हें ये सब करम-फ़रमा हमारे हैं

समझाएँ किस तरह दिल-ए-ना-कर्दा-कार को

ये दोस्ती समझता है दुश्मन के प्यार को

दामन अश्कों से तर करें क्यूँ-कर

राज़ को मुश्तहर करें क्यूँ-कर

किसी की तमन्ना निकलती रही

मिरी आरज़ू हाथ मलती रही

आने में कभी आप से जल्दी नहीं होती

जाने में कभी आप तवक़्क़ुफ़ नहीं करते

ले चला फिर मुझे दिल यार-ए-दिल-आज़ार के पास

अब के छोड़ आऊँगा ज़ालिम को सितमगार के पास

मेहरबानी चारासाज़ों की बढ़ी

जब बढ़ा दरमाँ तो बीमारी बढ़ी

मोहब्बत में वफ़ा की हद जफ़ा की इंतिहा कैसी

'मुबारक' फिर कहना ये सितम कोई सहे कब तक

शिकस्त-ए-तौबा की तम्हीद है तिरी तौबा

ज़बाँ पे तौबा 'मुबारक' निगाह साग़र पर

ये ग़म-कदा है इस में 'मुबारक' ख़ुशी कहाँ

ग़म को ख़ुशी बना कोई पहलू निकाल के

कहीं ऐसा हो कम-बख़्त में जान जाए

इस लिए हाथ में लेते मिरी तस्वीर नहीं

गई बहार मगर अपनी बे-ख़ुदी है वही

समझ रहा हूँ कि अब तक बहार बाक़ी है

उस गली में हज़ार ग़म टूटा

आना जाना मगर नहीं छूटा

ख़ैर साक़ी की सलामत मय-कदा

जिस क़दर पी उतनी हुश्यारी बढ़ी

ये तसर्रुफ़ है 'मुबारक' दाग़ का

क्या से क्या उर्दू ज़बाँ होती गई

बेवफ़ा उम्र दग़ाबाज़ जवानी निकली

यही रहती है ज़ालिम वही रहती है

किसी से आज का वादा किसी से कल का वादा है

ज़माने को लगा रक्खा है इस उम्मीद-वारी में

दिल लगाते ही तो कह देती हैं आँखें सब कुछ

ऐसे कामों के भी आग़ाज़ कहीं छुपते हैं

इक मिरा सर कि क़दम-बोसी की हसरत इस को

इक तिरी ज़ुल्फ़ कि क़दमों से लगी रहती है

जो क़यामत का नहीं दिन वो मिरा दिन कैसा

जो तड़प कर कटी हो वो मिरी रात नहीं

मिरी ख़ाक भी उड़ेगी बा-अदब तिरी गली में

तिरे आस्ताँ से ऊँचा मिरा ग़ुबार होगा

क्या कहें क्या क्या किया तेरी निगाहों ने सुलूक

दिल में आईं दिल में ठहरीं दिल में पैकाँ हो गईं

तुम को समझाए 'मुबारक' कोई क्यूँकर अफ़्सोस

तुम तो रोने लगे यार और भी समझाने से

मानोगे मानोगे हमारी

उधर हो जाएगी दुनिया इधर की

असर हो या हो वाइज़ बयाँ में

मगर चलती तो है तेरी ज़बाँ ख़ूब

तुम भूल गए मुझ को यूँ याद दिलाता हूँ

जो आह निकलती है वो याद-दहानी है

दिल में आने के 'मुबारक' हैं हज़ारों रस्ते

हम बताएँ उसे राहें कोई हम से पूछे

कुछ इस अंदाज़ से सय्याद ने आज़ाद किया

जो चले छुट के क़फ़स से वो गिरफ़्तार चले

इस भरी महफ़िल में हम से दावर-ए-महशर पूछ

हम कहेंगे तुझ से अपनी दास्ताँ सब से अलग

मेरी दुश्वारी है दुश्वारी मिरी

मेरी मुश्किल आप की मुश्किल नहीं

कल तो देखा था 'मुबारक' बुत-कदे में आप को

आज हज़रत जा के मस्जिद में मुसलमाँ हो गए

जो उन को चाहिए वो किए जा रहे हैं वो

जो मुझ को चाहिए वो किए जा रहा हूँ मैं

जबीं पर ख़ाक है ये किस के दर की

बलाएँ ले रहा हूँ अपने सर की

बिखरी हुई है यूँ मिरी वहशत की दास्ताँ

दामन किधर किधर है गिरेबाँ कहाँ कहाँ