Mushafi Ghulam Hamdani's Photo'

मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

1747 - 1824 | लखनऊ, भारत

18वीं सदी के बड़े शायरों में शामिल, मीर तक़ी 'मीर' के समकालीन।

18वीं सदी के बड़े शायरों में शामिल, मीर तक़ी 'मीर' के समकालीन।

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Aaraam se ek din kabhi ham baithe na ghar pe

वसी शाह

go zaKHmii hai.n ham par use kyaa Gam hai hamaaraa

वसी शाह

आता है किस अंदाज़ से टुक नाज़ तो देखो

ताहिरा सैयद

ख़्वाब था या ख़याल था क्या था

जगजीत सिंह

अन्य वीडियो

  • Aaraam se ek din kabhi ham baithe na ghar pe

    Aaraam se ek din kabhi ham baithe na ghar pe वसी शाह

  • go zaKHmii hai.n ham par use kyaa Gam hai hamaaraa

    go zaKHmii hai.n ham par use kyaa Gam hai hamaaraa वसी शाह

  • आता है किस अंदाज़ से टुक नाज़ तो देखो

    आता है किस अंदाज़ से टुक नाज़ तो देखो ताहिरा सैयद

  • ख़्वाब था या ख़याल था क्या था

    ख़्वाब था या ख़याल था क्या था जगजीत सिंह